SEBI New Circular : 1 जुलाई से MIIs के लिए समान शुल्कअनिवार्य किया, ब्रोकरों पर असर

SEBI के नए परिपत्र में अनिवार्य किया गया है कि स्टॉक ब्रोकर और डिपॉजिटरी सहभागी जैसे बाजार बुनियादी ढांचा संस्थानों को सभी सदस्यों के लिए समान और बराबर शुल्क लागू करना होगा।
SEBI New Circular 1 जुलाई से MIIs के लिए समान शुल्कअनिवार्य किया, ब्रोकरों पर असर

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने एक नया निर्देश जारी किया, जिसमें अनिवार्य किया गया है कि स्टॉक ब्रोकर, डिपॉजिटरी सहभागी और क्लीयरिंग सदस्य जैसे बाजार बुनियादी ढांचा संस्थान (MIIs) 1 जुलाई से सभी सदस्यों के लिए समान और बराबर शुल्क लागू करें।

इससे पहले, MIIs मात्रा-आधारित स्लैब-वार शुल्क प्रणाली का उपयोग करते थे। SEBI का नवीनतम परिपत्र इस मॉडल को समाप्त करने का लक्ष्य रखता है, यह तर्क देते हुए कि यह संभावित रूप से निष्पक्ष और समान बाजार पहुंच से समझौता करता है, बड़े खिलाड़ियों को उनकी उच्च मात्रा उत्पन्न करने की क्षमता के कारण पक्षपात करता है।

नियामक परिवर्तन से ट्रेडिंग सदस्यों के बीच समान अवसर प्रदान करके ब्रोकरेज फर्मों की राजस्व धाराओं को काफी प्रभावित करने की उम्मीद है। इससे वर्तमान शुल्क संरचना के तहत बड़ी फर्मों के पास मौजूद प्रतिस्पर्धी लाभों में कमी हो सकती है।

इसके अतिरिक्त, परिपत्र में निर्दिष्ट है कि MIIs द्वारा अंतिम ग्राहकों पर लगाए गए शुल्क “लेबल के अनुसार” होने चाहिए, जो पारदर्शिता सुनिश्चित करता है और ग्राहकों को दिए जाने वाले शुल्क MIIs द्वारा वहन किए जाने वाले शुल्कों से मेल खाते हैं। यह निवेशकों के लिए निष्पक्षता और स्पष्टता बढ़ाने का लक्ष्य रखता है।

विशेषज्ञों का अनुमान है कि यह नई नीति समग्र ट्रेडिंग वॉल्यूम को भी प्रभावित कर सकती है। समान शुल्क संरचना ट्रेडिंग व्यवहार में बदलाव ला सकती है, विशेष रूप से खुदरा निवेशकों के बीच जो पहले स्लैब-वार प्रणाली के तहत वंचित थे।

Loading
Read More News

STOP PAYING

₹ 20 BROKERAGE

ON TRADES !

Trade Intraday and Futures & Options