आने वाले फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स – Upcoming Follow On Public Offers in Hindi

आने वाले फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स - Upcoming Follow On Public Offers in Hindi

फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स क्या होता है? – What Is Follow On Public Offer

फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर (FPO) यह प्रक्रिया होती है जब कोई पहले से सार्वजनिक लिस्टेड कंपनी निवेशकों को अधिक शेयर जारी करती है। यह आमतौर पर उसकी इक्विटी को विभाजित करने के लिए या उधार बढ़ावा दिया बिना पूंजी जुटाने के लिए किया जाता है, जिससे वह ऋण चुका सके, ऑपरेशन्स को वित्तपोषित कर सके, या विस्तार को समर्थन दे सके।

वर्तमान/आगामी फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफरों की सूची – List Of Current/Upcoming Follow On Public Offers in Hindi 

नीचे दिए गए तालिका में भारत में 20-07-2024 को वर्तमान/आगामी FPOs दिखाए गए हैं।

CompanySubscription PeriodIssue PriceIssue Size (₹ Cr.)Price Band (₹)
SAR Televenture Limited22 July to 24 July 2024Book Building – SME150200.00 to 210.00

आगामी फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स का परिचय – Introduction of the Upcoming Follow On Public Offers in Hindi

SAR Televenture Limited

SAR Televenture Limited एक भारतीय कंपनी है जो दूरसंचार क्षेत्र में संलग्न है। यह विभिन्न दूरसंचार सेवाओं और समाधान प्रदान करने में विशेषज्ञता रखती है। कंपनी की पेशकशों में नेटवर्क प्रबंधन, सिस्टम एकीकरण और दूरसंचार अवसंरचना सेवाएं शामिल हैं, जो उद्योग के विभिन्न ग्राहकों को पूरा करती हैं। SAR Televenture भारत भर में कनेक्टिविटी को बढ़ाने और दूरसंचार संचालन का समर्थन करने पर ध्यान केंद्रित करती है।

आने वाले फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स (FPO) – FAQs

1. फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स के प्रकार क्या होते हैं? 

फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स (FPOs) मुख्य रूप से दो प्रकारों में वर्गीकृत किए जा सकते हैं:
Dilutive FPO: 
इस प्रकार के FPO में, नए शेयर जारी किए जाते हैं, जिससे बाजार में मौजूदा शेयरों की कुल संख्या बढ़ जाती है। इससे प्रति शेयर की कमाई घट सकती है क्योंकि अधिक शेयरों के बीच लाभ बाँटा जाता है। इस जमा के माध्यम से जुटाई गई पूंजी का उपयोग व्यापार के विस्तार, ऋण का भुगतान करने या अन्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाता है।
Non-Dilutive FPO:
यह घटना तब होती है जब मौजूदा शेयरहोल्डर्स, जैसे कि प्रमोटर या निजी पूंजी निवेशक, अपने शेयरों को सार्वजनिक को बेचते हैं। नए शेयर नहीं बनाए जाते हैं; बल्कि मौजूदा शेयर बेचे जाते हैं, और इसलिए, प्रति शेयर की कमाई में कोई प्रवाह नहीं होती है। इस प्रकार की पेशकश को अक्सर ‘बिक्री के लिए पेशकश’ (Offer for Sale, OFS) भी कहा जाता है।

2. फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर्स के लाभ क्या होते हैं? 

फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर (FPOs) कंपनियों और उनके शेयरहोल्डरों को कई लाभ प्रदान करते हैं: 

अतिरिक्त पूंजी – Additional Capital: 
FPOs कंपनियों को विस्तार परियोजनाओं के लिए अतिरिक्त इक्विटी पूंजी जुटाने का मौका देते हैं, जिससे वे बिना ऋण बढ़ाए या ब्याज देने के, ऋण को कम कर सकती हैं या अन्य व्यापारिक गतिविधियों को वित्तपोषित कर सकती हैं।

सुधारी गई सार्वजनिक धारणा – Improved Public Perception: 
दूसरी या आगामी सार्वजनिक प्रस्ताव के माध्यम से, एक कंपनी अपनी प्रतिष्ठा और सार्वजनिक प्रोफ़ाइल को बढ़ा सकती है। एक FPO इस बात का संकेत देता है कि कंपनी अपनी प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव के बाद से पर्याप्त दृढ़ता के साथ स्थिर रही है, ताकि वह आगे के विस्तार की सोच सके।

बाजार में बढ़ी हुई प्रस्तुति – Increased Market Exposure: 
FPOs कंपनी की बाजार में प्रसार को बढ़ा सकते हैं जिससे उसके शेयरहोल्डर बेस में विस्तार होता है और उसके व्यापार में वॉल्यूम बढ़ता है, जिससे अधिक लिक्विडिटी हो सकती है।

मूल्य स्थिरता – Price Stabilization: 
अतिरिक्त शेयर जारी करने से अस्थिर बाजार में स्टॉक कीमत को स्थिर करने में मदद मिल सकती है, जिससे निवेशकों और कंपनी को अधिक पूर्वानुमाननीयता मिल सकती है।

निवेशकों के लिए निकास या आंशिक निकास – Exit or Partial Exit for Investors: 
FPOs उपलब्ध कराने से मौजूदा शेयरहोल्डरों को एक अवसर प्रदान करते हैं, जिसमें निजी पूंजी निवेशक या संस्थापक समेत, अपने हिस्सेदारी का हिस्सा संरचित तरीके से बेच सकते हैं, जिससे उनके निवेश पर लाभ हासिल हो सकता है।

विविधीकरण – Diversification: 
अतिरिक्त निधियों के साथ, कंपनियाँ नए उत्पादों या बाजारों में अपने व्यापार को विविध कर सकती हैं, जिससे एकल आय के एक ही स्रोत पर निर्भरता कम हो और निवेश का जोखिम कम हो सकता है।

3. फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर का उदाहरण क्या है? 

हाल ही में एक फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर (FPO) का उदाहरण एडानी एंटरप्राइजेज से जुड़ा। कंपनी ने एक ₹20,000 करोड़ FPO की योजना बनाई थी, लेकिन अंत में इसे आगे नहीं बढ़ाने का फैसला किया और निवेशकों को लाभ वापस कर दिया। यह निर्णय FPO को क्रियान्वयन में शामिल जटिल रणनीतियों और सोच-समझ को दर्शाता है।

4. फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर कैसे काम करता है? 

फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर (FPO) कार्यक्रम एक सार्वजनिक लिस्टेड कंपनी द्वारा पूंजी जुटाने के लिए अतिरिक्त शेयर जारी करने से काम करता है। इस प्रक्रिया की शुरुआत कंपनी द्वारा शेयर जारी करने की इच्छा की घोषणा करके होती है, उसके बाद समय और मूल्य निर्धारित करने के लिए योग्यता की जांच होती है। फिर कंपनी एक प्रस्ताव पत्र तैयार करती है जिसमें FPO के बारे में विस्तृत जानकारी शामिल होती है। उसके बाद, निवेशकों को आकर्षित करने के लिए रोड शो और मीडिया अभियान जैसी मार्केटिंग रणनीतियाँ अपनाई जाती हैं। जब प्रस्ताव पूरी तरह से योग्यतामान हो जाता है, तो शेयर निवेशकों को आवंटित किए जाते हैं और फिर स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्ट होते हैं।

Disclaimer – IPO में सदस्यता प्राप्त करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह लें। निवेश बाजार में रिस्क होता है और पूरी जानकारी के बिना निवेश करना अनुचित हो सकता है। निवेश के परिणामों के लिए आपकी खुद की जिम्मेदारी होती है।

Loading
Read More News

STOP PAYING

₹ 20 BROKERAGE

ON TRADES !

Trade Intraday and Futures & Options