आगामी Buyback शेयर 2024 – Upcoming Buyback of Shares in Hindi

Buyback शेयर की सम्पूर्ण जानकारी: उसके लाभ, नुकसान और अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर! भारत में Buyback शेयर की पूरी सूचि देखें!
Upcoming Buyback Of Shares 2024 in Hindi

2024 में होने वाले शेयर Buyback में KDDL Ltd और Aurobindo Pharma Limited जैसी प्रमुख कंपनियाँ शामिल हैं। ये Buyback शेयरधारकों को आकर्षक कीमतों पर अपने शेयर वापस कंपनी को बेचने का अवसर प्रदान करते हैं, जिससे संभावित रूप से तत्काल लाभ और बेहतर वित्तीय अनुपात का लाभ मिल सकता है।

शेयरों की Buyback क्या है?

शेयरों की Buyback वह प्रक्रिया है जिसमें कंपनी अपने ही शेयर बाजार से वापस खरीदती है। इससे शेयरधारकों को नकद मिलता है और कंपनी के शेयरों की संख्या घट जाती है।

भारत में 2024 में Buyback शेयरों की सूची – List Of Buyback Of Shares In India 2024 in Hindi

शेयर Buyback की सूची दर्शाने वाली तालिका यहां दी गई है:

CompanyOffer PriceOpen DateClose DateBuyback TypeBuyback Price(per share)Issue Size – Shares (Cr)
KDDL LtdN/AN/AN/ATender Offer37000.02
Aurobindo Pharma LimitedJul 30, 2024N/AN/ATender Offer14600.51
eClerx Services2800.0009 July ‘2415 July ‘24Tender Offer28000.14
Bajaj Consumer Care Ltd290.0009 July ‘2415 July ‘24Tender Offer2900.57
Godawari Power & Ispat Ltd1,400.00Jul 04, 202410 July ‘24Tender Offer27700.1
Cheviot Company Limited1,800.0021 June ‘2427 June ‘24Tender Offer18000.02
Sharda Motor Industries Ltd1,800.0011 June ‘2418 June ‘24Tender Offer18000.1
Anand Rathi Wealth Ltd.4,450.007 June ‘2413 June ’24Tender Offer44500.04

Buyback शेयरों का परिचय   

KDDL Ltd

KDDL Ltd एक प्रमुख भारतीय कंपनी है जो प्रिसिजन इंजीनियरिंग और मैन्युफैक्चरिंग में विशेषज्ञता रखती है, विशेष रूप से वॉच कंपोनेंट्स और लक्जरी पैकेजिंग क्षेत्रों में। 1981 में स्थापित, KDDL ने विभिन्न उद्योगों में विविधता हासिल की है, वैश्विक बाजारों में उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद और समाधान प्रदान किए हैं, और नवाचार पर मजबूत ध्यान केंद्रित किया है।

Aurobindo Pharma Limited

Aurobindo Pharma Limited, a leading pharmaceutical company, is renowned for its high-quality generic medicines. With a strong presence globally, it specializes in developing, manufacturing, and marketing a diverse range of pharmaceutical products. Recently, the company announced a buyback of shares, demonstrating its commitment to enhancing shareholder value and maintaining strong financial health.

Buyback शेयर कैसे काम करता है? How Does The Buyback Of Shares Work in Hindi

Buyback शेयर कारोबार में कंपनी अपने ही शेयरों को खुद से खरीदती है। इससे शेयरधारकों को नकद मिलता है और कंपनी के शेयरों की संख्या कम हो जाती है, जिससे शेयर की कीमत बढ़ सकती है। यह एक वित्तीय रणनीति है जो शेयरधारकों को लाभ पहुंचाती है और कंपनी की मार्केट प्रतिष्ठा में सुधार करती है।

Buyback शेयर के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न 

1. शेयरों की Buyback का मतलब क्या है?

शेयरों की Buyback का मतलब है कि कंपनी अपने ही शेयरों को बाजार से वापस खरीदती है। इससे शेयरधारकों को नकद मिलता है और कंपनी की संपत्ति में कमी होती है, जिससे शेयर की मांग बढ़ती है।

2. शेयर Buyback के फायदे क्या हैं?

निवेशकों को लाभ: निवेशकों को शेयरों को बेचकर नकद मिलता है।
EPS में वृद्धि: प्रति शेयर लाभ (EPS) में वृद्धि होती है।
कीमत में वृद्धि: शेयर की कीमत में वृद्धि होती है, जिससे शेयरधारकों को लाभ होता है।
वित्तीय स्थिति में सुधार: कंपनी की वित्तीय स्थिति मजबूत होती है।
अनचाहा अधिग्रहण से बचाव: अनचाहा अधिग्रहण से बचाव होता है।

3. भारत में शेयर Buyback कैसे काम करता है?

भारत में शेयर Buyback कारोबार में कंपनी अपने ही शेयरों को खरीदती है। यह प्रक्रिया शेयरधारकों को नकद मिलाती है और कंपनी के शेयरों की संख्या को कम करती है, जो शेयर की कीमत में वृद्धि कर सकता है। भारतीय कंपनियों को SEBI के निर्देशों के अनुसार बायबैक प्रक्रिया को नियंत्रित करना होता है।

4. शेयर Buyback के बाद शेयर की कीमत का क्या होता है?

शेयर Buyback के बाद, शेयर की कीमत में विभिन्नता आ सकती है। इसका प्रभाव बाजार की स्थिति, कंपनी के प्रदर्शन, और निवेशकों के विश्वास पर पड़ता है। कई बार, शेयर की कीमत में वृद्धि होती है, जबकि कभी-कभी यह कम हो सकती है। इसमें निवेशकों के भावनात्मक प्रतिक्रिया का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है।

5. शेयर Buyback के नुकसान क्या हैं ?

शेयर Buyback के नुकसान:
नकदी की कमी: कंपनी को नकदी की कमी होती है।
प्रतिक्रिया की संभावना: Buyback के परिणाम की वित्तीय परिणाम में प्रतिक्रिया हो सकती है।
कंपनी की छवि पर प्रभाव: बार-बार Buyback करने से निवेशकों की आत्मविश्वास में कमी आ सकती है। करने से निवेशकों की आत्मविश्वास में कमी आ सकती है।

Loading
Read More News

STOP PAYING

₹ 20 BROKERAGE

ON TRADES !

Trade Intraday and Futures & Options