Finelistings Technologies Ltd IPO GMP, IPO समीक्षा, और अन्य डिटेल्स चेक करें!

Finelistings Technologies IPO शेयर की कीमत ₹123 प्रति शेयर है, इसमें ₹20 GMP है, और 1000 शेयर लॉट की पेशकश करता है। सदस्यता 7 मई से 9 मई 2024 तक खुली रहेगी।
Finelistings Technologies Ltd IPO GMP, IPO समीक्षा, और अन्य डिटेल्स चेक करें!

6 मई, 2024 तक, Finelistings Technologies IPO में GMP के रूप में ₹20 है, जिसकी कीमत ₹123 प्रति शेयर है। 1000 शेयरों के लॉट की पेशकश करते हुए, सदस्यता विंडो 7 मई, 2024 से 9 मई, 2024 तक खुली है।

Invest in Mutual fund, IPO etc with just Rs.0

Finelistings Technologies Ltd IPO जीएमपी (GMP)

6 मई, 2024 तक Finelistings Technologies Ltd के लिए ग्रे मार्केट प्रीमियम (GMP) ₹20 है। यह आकलन IPO के लिए ₹123 प्रति शेयर के मूल्य बैंड के साथ मेल खाता है।

Finelistings Technologies Ltd IPO समीक्षा

Finelistings Technologies Ltd मिश्रित वित्तीय परिणाम प्रदर्शित करती है। हालाँकि शुरुआत में राजस्व बढ़ा, लेकिन बाद में इसमें कमी आई और पिछले साल के आंकड़े इस साल से आगे निकल गए। इक्विटी में लगातार वृद्धि हुई है, जो विकास क्षमता को दर्शाती है। राजस्व में उतार-चढ़ाव के बावजूद, लाभप्रदता में उल्लेखनीय सुधार हुआ है, जिससे निवेशकों का विश्वास बढ़ा है।

कंपनी के कर पश्चात लाभ और प्रति शेयर आय में पर्याप्त वृद्धि देखी गई है, जो मार्च 2022 में घाटे से लेकर दिसंबर 2023 तक उल्लेखनीय लाभ तक पहुंच गई है। कुल संपत्ति में वृद्धि हुई है, जो विस्तार की संभावनाओं का संकेत दे रही है। हालाँकि, निवल मूल्य पर रिटर्न एक मिश्रित तस्वीर प्रस्तुत करता है, जो शेयरधारक रिटर्न उत्पन्न करने में विभिन्न प्रदर्शन का संकेत देता है।

Finelistings Technologies Limited IPO तिथि

Finelistings Technologies Ltd IPO सदस्यता विंडो 7 मई, 2024 से 9 मई, 2024 तक खुली है।

Finelistings Technologies Limited IPO प्राइस बैंड

Finelistings Technologies Ltd IPO के शेयर का प्राइस बैंड ₹123 प्रति शेयर है और प्रत्येक का अंकित मूल्य ₹10 है।

Finelistings Technologies Limited कंपनी के बारे में 

Finelistings Technologies Ltd पूर्व-स्वामित्व वाली लक्जरी कार बिक्री और सॉफ्टवेयर विकास में काम करती है, जो डिजिटल परिवर्तन सेवाएं प्रदान करती है। एंबिएंस मॉल, NCR में स्थित, कंपनी बिक्री के बाद की सेवाओं, वित्तीय सहायता और डिजिटल समाधानों के साथ कार की बिक्री का समर्थन करती है। कमीशन से प्रत्यक्ष बिक्री की ओर बढ़ते हुए, उन्होंने एक एकीकृत O2O पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करते हुए, 2020 से ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्लेटफार्मों के माध्यम से 100 कारें बेची हैं। उनकी सॉफ़्टवेयर सेवाओं में लचीले स्टाफिंग द्वारा समर्थित डेटा एनालिटिक्स और कस्टम समाधान शामिल हैं।

Finelistings Technologies Limited IPO के लिए आवेदन कैसे करें?

Finelistings Technologies Ltd IPO के लिए ऐलिस ब्लू के माध्यम से आवेदन करने के लिए निम्नलिखित कार्रवाई करनी होगी:

  1. यदि आपके पास पहले से कोई खाता नहीं है, तो आपको ऐलिस ब्लू के साथ एक डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलना होगा
  2. एक बार जब आपका खाता सक्रिय हो जाता है, तो आप ऐलिस ब्लू प्लेटफॉर्म के IPO सेक्शन में Finelistings Technologies Ltd IPO तक पहुचें और IPO की डिटेल्स चेक कर सकते हैं।
  3. आप जितने शेयर खरीदना चाहते हैं, उनकी संख्या दर्ज करें और IPO के मूल्य बैंड के भीतर अपनी बोली लगाएं।
  4. अपनी सभी डिटेल्स चेक करें, और अपना आवेदन जमा करें।

आप कुछ ही क्लिक में ऐलिस ब्लू में Finelistings Technologies Ltd के IPO के लिए आवेदन कर सकते हैं!

*कृपया ध्यान रखें कि शेयर आवंटन IPO की मांग के अधीन है और इसकी गारंटी नहीं है।

Read More News
Manappuram Finance Q4 का मुनाफा सोने की तेजी से 35.7% बढ़ा, ₹1शेयर लाभांश की घोषणा!

Manappuram Finance Q4 का मुनाफा सोने की तेजी से 35.7% बढ़ा, ₹1/शेयर लाभांश की घोषणा!

Manappuram Finance का Q4FY24 शुद्ध लाभ 35.7% बढ़कर ₹563.5 करोड़ हो गया, जो सोने की कीमत में तेजी से प्रेरित है, जिसने पिछले साल ₹415 करोड़ की तुलना में इसकी कमाई में उल्लेखनीय वृद्धि की।

Suzlon Energy Q4 results राजस्व 30% बढ़कर 2,196 करोड़, फिर भी शेयर 4.97% गिरा!

Suzlon Energy Q4 results : राजस्व 30% बढ़कर 2,196 करोड़, फिर भी शेयर 4.97% गिरा!

Suzlon Energy का Q4 शुद्ध लाभ सालाना आधार पर 8.6% गिरकर 254 करोड़ रुपये हो गया, जबकि राजस्व पिछले साल की समान तिमाही के 1,694 करोड़ रुपये से 30% बढ़कर 2,196 करोड़ रुपये हो गया।

GQG ने Adani समूह में खरीदी बड़ी हिस्सेदारी, निवेश बढ़कर 10 बिलियन डॉलर  हुआ!

GQG ने Adani समूह में खरीदी बड़ी हिस्सेदारी, निवेश बढ़कर 10 बिलियन डॉलर  हुआ!

कॉर्पोरेट प्रशासन और वित्तीय गलतबयानी पर चिंताओं के कारण शुरुआती स्टॉक में गिरावट के बावजूद, GQG पार्टनर्स के राजीव जैन ने हिंडनबर्ग की महत्वपूर्ण रिपोर्ट के बाद Adani समूह में अपनी हिस्सेदारी बढ़ा दी।