बेसिक बनाम डाइल्यूटेड ईपीएस

बेसिक और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच प्राथमिक अंतर यह है कि बेसिक ईपीएस की गणना मौजूदा बकाया शेयरों की संख्या के साथ की जाती है, जो कंपनी की प्रति शेयर आय दर्शाती है। हालाँकि, डाइल्यूटेड ईपीएस, परिवर्तनीय से संभावित शेयरों के लिए जिम्मेदार है, जो अधिक रूढ़िवादी लाभ परिप्रेक्ष्य की पेशकश करता है।

बेसिक ईपीएस क्या है?

बेसिक ईपीएस (प्रति शेयर आय) एक वित्तीय मीट्रिक है जो किसी कंपनी की शुद्ध आय को बकाया सामान्य शेयरों की कुल संख्या से विभाजित करके उसकी लाभप्रदता की गणना करती है। यह आंकड़ा निवेशकों को यह समझ प्रदान करता है कि स्टॉक के प्रत्येक शेयर से कितना लाभ जुड़ा है, जो कंपनी के वित्तीय स्वास्थ्य पर एक सीधा परिप्रेक्ष्य पेश करता है।

इसे और स्पष्ट करने के लिए, ₹50 मिलियन की शुद्ध आय और 5 मिलियन बकाया शेयरों वाली कंपनी पर विचार करें। इस कंपनी के लिए मूल ईपीएस ₹10 प्रति शेयर (₹50 मिलियन / 5 मिलियन शेयर) होगा। यह गणना दर्शाती है कि कंपनी ने प्रति शेयर कितना लाभ कमाया है, जिससे शेयरधारकों को कंपनी की लाभप्रदता का स्पष्ट अंदाजा हो जाता है। बेसिक ईपीएस निवेशकों के लिए एक प्रमुख संकेतक है, जो सीधे तौर पर उनके प्रत्येक शेयर से होने वाली कमाई को दर्शाता है।

डाइल्यूटेड ईपीएस क्या है?

डाइल्यूटेड ईपीएस (प्रति शेयर आय) सभी संभावित शेयरों को शामिल करके बुनियादी ईपीएस पर विस्तार करता है जो परिवर्तनीय प्रतिभूतियों, विकल्प या वारंट से जारी किए जा सकते हैं। यदि सभी संभावित कमजोर प्रतिभूतियों को सामान्य स्टॉक में परिवर्तित कर दिया जाता है, तो यह गणना प्रति शेयर आय दिखाकर कंपनी की लाभप्रदता का अधिक रूढ़िवादी दृष्टिकोण प्रदान करती है।

एक ठोस उदाहरण प्रदान करने के लिए, मान लें कि किसी कंपनी की शुद्ध आय ₹50 मिलियन, 5 मिलियन बकाया शेयर और संभावित परिवर्तनीय प्रतिभूतियाँ हैं जो अन्य 1 मिलियन शेयर जोड़ सकती हैं। डाइल्यूटेड ईपीएस की गणना ₹8.33 प्रति शेयर (₹50 मिलियन / 6 मिलियन शेयर) के रूप में की जाएगी, जो शेयरों की संख्या में संभावित वृद्धि के कारण मूल ईपीएस से कमी को दर्शाती है। यह उपाय निवेशकों के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह ऐसे परिदृश्य में कंपनी की कमाई के बारे में जानकारी देता है जहां सभी कमजोर प्रतिभूतियों का उपयोग किया जाता है।

बेसिक और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच अंतर

बेसिक और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच मुख्य अंतर यह है कि बेसिक ईपीएस बकाया शेयरों की वर्तमान संख्या का उपयोग करके निर्धारित किया जाता है, जबकि डाइल्यूटेड ईपीएस परिवर्तनीय प्रतिभूतियों से अतिरिक्त शेयरों पर विचार करता है, जो कंपनी की लाभप्रदता के बारे में अधिक रूढ़िवादी दृष्टिकोण पेश करता है।

ऐसे और भी अंतरों का सारांश नीचे दिया गया है:

FactorBasic EPSDiluted EPS
Share CountOnly current outstanding shares.Includes potential shares from conversions.
EPS ImpactHigher EPS due to fewer shares.Lower EPS due to more shares.
Investor PerspectiveShows current earnings strength.Indicates potential future dilution.
Risk AssessmentLess conservative.More conservative.

बुनियादी बनाम डाइल्यूटेड ईपीएस – त्वरित सारांश

  • मूल और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच प्राथमिक अंतर यह है कि मूल ईपीएस की गणना बकाया सामान्य शेयरों की कुल संख्या का उपयोग करके की जाती है। इसके विपरीत, डाइल्यूटेड ईपीएस परिवर्तनीय प्रतिभूतियों, विकल्प या वारंट से प्राप्त सभी संभावित शेयरों को शामिल करता है।
  • बेसिक ईपीएस, या प्रति शेयर आय, एक महत्वपूर्ण वित्तीय मीट्रिक है जो प्रति शेयर के आधार पर कंपनी की लाभप्रदता दिखाती है। इसकी गणना शुद्ध आय को बकाया शेयरों की कुल संख्या से विभाजित करके की जाती है। यह आंकड़ा निवेशकों को प्रत्येक सामान्य शेयर के लिए आवंटित लाभ का अनुमान लगाने में मदद करता है, जिससे कंपनी के वित्तीय प्रदर्शन में प्रत्यक्ष जानकारी मिलती है।
  • डाइल्यूटेड ईपीएस गणना में परिवर्तनीय प्रतिभूतियों, विकल्पों या वारंटों से संभावित शेयरों को शामिल करके बेसिक ईपीएस की अवधारणा का विस्तार करता है। यह लाभप्रदता का अधिक व्यापक दृष्टिकोण प्रदान करता है, शेयर संख्या में वृद्धि की संभावना को ध्यान में रखता है, और इस प्रकार प्रति शेयर आय का एक रूढ़िवादी अनुमान प्रदान करता है।
  • बेसिक और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच प्राथमिक अंतर यह है कि बेसिक ईपीएस की गणना बकाया शेयरों की वर्तमान संख्या का उपयोग करके की जाती है, जबकि डाइल्यूटेड ईपीएस परिवर्तनीय प्रतिभूतियों से अतिरिक्त शेयरों को ध्यान में रखता है, जो कंपनी की लाभप्रदता के बारे में अधिक रूढ़िवादी दृष्टिकोण प्रदान करता है।
  • आप इंट्राडे में केवल ₹15 ब्रोकरेज पर स्टॉक का व्यापार कर सकते हैं और ऐलिस ब्लू के साथ डिलीवरी ट्रेडिंग में शून्य ब्रोकरेज पर निवेश कर सकते हैं। अब अपना ऐलिस ब्लू खाता खोलें।

बेसिक और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच अंतर – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

बेसिक ईपीएस और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच क्या अंतर है?

बेसिक और डाइल्यूटेड ईपीएस के बीच मुख्य अंतर यह है कि बेसिक ईपीएस की गणना केवल वास्तविक बकाया शेयरों का उपयोग करके की जाती है, जबकि डाइल्यूटेड ईपीएस परिवर्तनीय प्रतिभूतियों से संभावित शेयरों पर विचार करता है, जो कंपनी की प्रति शेयर आय के बारे में अधिक रूढ़िवादी दृष्टिकोण पेश करता है।

क्या उच्चतर डाइल्यूटेड ईपीएस अच्छा है?

एक उच्च डाइल्यूटेड ईपीएस किसी कंपनी की मजबूत लाभप्रदता को इंगित करता है, यहां तक कि संभावित शेयर कमजोरियों को ध्यान में रखते हुए भी, जिसे निवेशक आमतौर पर सकारात्मक रूप से देखते हैं।

क्या पीई अनुपात बुनियादी या डाइल्यूटेड ईपीएस का उपयोग करता है?

पीई अनुपात या तो मूल या डाइल्यूटेड ईपीएस का उपयोग कर सकता है, लेकिन डाइल्यूटेड ईपीएस का उपयोग कंपनी के मूल्यांकन का अधिक सतर्क मूल्यांकन प्रदान करता है।

क्या उच्च ईपीएस अच्छा या बुरा है?

प्रति शेयर उच्च आय (ईपीएस) को आमतौर पर वित्तीय जगत में एक सकारात्मक संकेतक माना जाता है। यह दर्शाता है कि एक कंपनी बकाया शेयरों की संख्या के सापेक्ष पर्याप्त मुनाफा कमा रही है। इसे मजबूत वित्तीय स्वास्थ्य और कमाई पैदा करने में दक्षता के संकेत के रूप में देखा जा सकता है।

डाइल्यूटेड ईपीएस के प्रकार क्या हैं?

प्रति शेयर डाइल्यूटेड आय (ईपीएस) को स्वयं प्रकारों में वर्गीकृत नहीं किया गया है। इसके बजाय, यह कंपनी की संभावित परिवर्तनीय प्रतिभूतियों के आधार पर भिन्न होता है। इनमें विकल्प, वारंट या परिवर्तनीय बांड शामिल हो सकते हैं, जिनका प्रयोग करने पर कुल शेयर संख्या और इस प्रकार ईपीएस गणना पर प्रभाव पड़ सकता है।

डाइल्यूटेड ईपीएस फॉर्मूला क्या है?

डाइल्यूटेड ईपीएस का सूत्र है: डाइल्यूटेड ईपीएस = (शुद्ध आय – पसंदीदा लाभांश) / (भारित औसत शेयर + परिवर्तनीय प्रतिभूतियां)।

All Topics
Related Posts
Aniket Singal Portfolio And Top Holdings In Hindi
Hindi

अनिकेत सिंगल का पोर्टफोलियो और टॉप होल्डिंग्स – Aniket Singal Portfolio And Top Holdings In Hindi

नीचे दी गई तालिका उच्चतम बाजार पूंजीकरण के आधार पर अनिकेत सिंगल के पोर्टफोलियो और शीर्ष होल्डिंग्स को दर्शाती है। Name Market Cap (Cr) Close

STOP PAYING

₹ 20 BROKERAGE

ON TRADES !

Trade Intraday and Futures & Options