August 11, 2023

NSE और BSE में क्या अंतर है?

NSE और BSE में क्या अंतर है?

एनएसई और बीएसई भारत के स्टॉक एक्सचेंज हैं और भारत में सभी सूचीबद्ध कंपनियां उन पर मौजूद हैं। स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई/बीएसई) एक इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म है जहां स्टॉक, डेरिवेटिव, बॉन्ड, ईटीएफ आदि जैसे विभिन्न वित्तीय साधन सूचीबद्ध हैं।

हालांकि एनएसई और बीएसई दोनों एक ही उद्देश्य की पूर्ति करते हैं, लेकिन उनकी अलग-अलग कहानियां हैं। आइए नीचे उनके बारे में जानें।

मानदंडएनएसईबीएसई
पूर्ण प्रपत्रएनएसई का फुल फॉर्म – नेशनल स्टॉक एक्सचेंजबीएसई का फुल फॉर्म – बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज
निगमनएनएसई की स्थापना 1992 में हुई थीबीएसई की स्थापना 1875 में हुई थी
बेंचमार्क इंडेक्सनिफ्टी 50सेंसेक्स
मुख्यालयएनएसई मुंबई में स्थित है।बीएसई भी मुंबई में स्थित है।
सूचीबद्ध कंपनियांएनएसई पर 1696 कंपनियां लिस्टेड हैं।5749 कंपनियां बीएसई पर लिस्टेड हैं।
उत्पादों1. इक्विटी2. इक्विटी, मुद्रा और कमोडिटी डेरिवेटिव्स3. एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स4. म्युचुअल फंड5. सेक्युरिटी उधार और उधार योजना6. कॉर्पोरेट बांड7. आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ)8. संस्थागत नियोजन कार्यक्रम (आईपीपी)9. बिक्री के लिए प्रस्ताव1. इक्विटी2. इक्विटी, मुद्रा और कमोडिटी डेरिवेटिव्स3. एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स4. म्युचुअल फंड5. कॉर्पोरेट बांड6. आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ)7. बिक्री के लिए प्रस्ताव
एसएमई मंचएनएसई इमर्जबीएसई एसएमई
बाजार पूंजीकरण2.27 ट्रिलियन2.1 ट्रिलियन
चलनिधिउच्च चलनिधिकम चलनिधि
सूचकांक मूल्य (23 नवंबर 2020 तक)12,84843,834
वैश्विक पद11th10th
वेबसाइटwww.nseindia.comwww.bseindia.com

निफ्टी और सेंसेक्स के बीच अंतर भी देखें।

विषय:

एनएसई का अर्थ – NSE Meaning in Hindi

एनएसई का मतलब नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है, यह बाजार पूंजीकरण के मामले में भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। इसका गठन 1992 में किया गया था, 1993 में स्टॉक एक्सचेंज के रूप में मान्यता प्राप्त हुई, और 1994 में इसका संचालन शुरू हुआ। इसने भारत में इलेक्ट्रॉनिक या स्क्रीन-आधारित व्यापार की शुरुआत करके व्यापारिक उद्योग में क्रांति ला दी थी।

वर्ष 1995 – 1996 के दौरान, एनएसई ने निफ्टी 50 – एनएसई का बेंचमार्क इंडेक्स लॉन्च किया। निफ्टी 50 एनएसई पर सूचीबद्ध लगभग 1600 शेयरों में से 50 सबसे बड़े और सबसे अधिक तरल शेयरों को ट्रैक करता है। ये 50 सबसे बड़ी कंपनियां विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करती हैं जो सामूहिक रूप से भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रतिनिधित्व करती हैं।

तो निफ्टी 50 पर नज़र रखने से आपको पूरे भारत के शेयर बाजार और आर्थिक रुझानों के बारे में स्पष्ट जानकारी प्राप्त करने में मदद मिलेगी। आप यहां निफ्टी 50 कंपनियों की जांच कर सकते हैं

पिछले 20 वर्षों में, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने विभिन्न उप्लभ्धियाँ हासिल किए हैं और हाल ही में निम्नलिखित पुरस्कार प्राप्त किए हैं:

  • कारोबार किए गए अनुबंधों के मामले में दुनिया का सबसे बड़ा डेरिवेटिव एक्सचेंज।
  • वर्ष का सूचकांक प्रदाता।
  • वर्ष का ईटीएफ सूचकांक प्रदाता।

बीएसई का अर्थ – BSE Meaning in Hindi

बीएसई का अर्थ बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है, यह 1875 में गठित एशिया का पहला स्टॉक एक्सचेंज है। पिछले 140 वर्षों में, बीएसई ने एक लंबा सफर तय किया है और इक्विटी, मुद्राओं, ऋण उपकरणों, डेरिवेटिव, म्यूचुअल फंड्स जैसे वित्तीय साधनों में व्यापार प्रदान करता है।

बीएसई की विभिन्न सहायक कंपनियां हैं जैसे:

  • BSE SME, भारत का सबसे बड़ा SME प्लेटफॉर्म है, जिसमें 250 से अधिक कंपनियां सूचीबद्ध हैं।
  • BSE Star MF, भारत का सबसे बड़ा म्यूचुअल फंड प्लेटफॉर्म है, जिसमें 2.7 मिलियन से अधिक लेनदेन हैं, और प्रति माह 2 लाख से अधिक नए SIP हैं।
  • BSE Bond बॉन्ड मार्केट में मार्केट लीडर है। अकेले वित्तीय वर्ष 2017 – 2018 में 530 निर्गमों से 2.09 लाख करोड़ रुपये का फंड जुटाया गया।

सेंसेक्स को सेंसिटिव इंडेक्स के रूप में भी जाना जाता है जो बीएसई का बेंचमार्क इंडेक्स है। यह विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में 30 बहुत बड़ी और अच्छी तरह से स्थापित कंपनियों को ट्रैक करता है, जो समग्र रूप से भारतीय आर्थिक रुझान और स्टॉक मार्केट का प्रतिनिधित्व करते हैं। आप इन 30 कंपनियों के प्रदर्शन को यहां ट्रैक कर सकते हैं।

सेंसेक्स का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यूरेक्स और ब्राजील, रूस, चीन और दक्षिण अफ्रीका के विभिन्न प्रमुख एक्सचेंजों पर कारोबार होता है।

स्टॉक एक्सचेंज और डिपॉजिटरियों के बारे में सीखने और अन्वेषण के लिए और भी बहुत कुछ है। इन विषयों को समझने के लिए नीचे दिए गए लेखों पर क्लिक करें।

NSE क्या है
NSDL और CDSL क्या है

(FAQ) अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल

1. क्या मैं एनएसई में खरीद सकता हूं और बीएसई में बेच सकता हूं?

हां, आप इंट्राडे और डिलीवर किए गए शेयरों के माध्यम से एनएसई पर खरीद सकते हैं और बीएसई पर बेच सकते हैं। इसे आर्बिट्राज ट्रेडिंग कहते हैं।

2. एनएसई और बीएसई शेयर की कीमत के बीच अंतर?

हां, एनएसई और बीएसई पर एक ही स्टॉक की कीमतों में थोड़ा अंतर है। उदाहरण के लिए, यदि कोई स्टॉक एनएसई पर ₹50 पर कारोबार कर रहा है, तो वह बीएसई पर ₹49.5 पर कारोबार कर सकता है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि स्टॉक कितना नकदी है। कम नकदी वाले स्टॉक के मामले में, कीमतों में अंतर अधिक हो सकता है।

3. शुरुआती लोगों के लिए कौन सा बेहतर है, बीएसई या एनएसई?

बीएसई और एनएसई दोनों ही शुरुआती लोगों के लिए उपयुक्त हैं, लेकिन जो बेहतर अनुकूल है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि शुरुआत करने वाला निवेशक किस तरह का है।

यदि आप एक नौसिखिया हैं जो इंट्राडे आधार पर व्यापार करना चाहते हैं, तो एनएसई आपके लिए उपयुक्त होगा क्योंकि इसमें बेहतर मात्रा और नकदी है।

यदि आप एक अनुभवी निवेशक हैं, तो बीएसई आपके लिए उपयुक्त होगा क्योंकि आपको दैनिक मात्रा और नकदी के बारे में बहुत अधिक चिंता करने की आवश्यकता नहीं होगी।

4. बीएसई और एनएसई में कितनी कंपनियां हैं?

5749 कंपनियां बीएसई पर सूचीबद्ध हैं और 1696 कंपनियां एनएसई पर सूचीबद्ध हैं।

5. एनएसई या बीएसई में कहां निवेश करें?

यदि आप एक इंट्राडे ट्रेडर हैं या कोई ऐसा व्यक्ति जो डेरिवेटिव (फ्यूचर्स और ऑप्शंस) में व्यापार करना चाहता है, तो आपको एनएसई के माध्यम से निवेश करना चाहिए।

आपको बीएसई के माध्यम से निवेश करना चाहिए यदि आप एक अनुभवी निवेशक हैं जो आज खरीदता है और एक महीने, साल या एक दशक के बाद बेचता है।

6. बीएसई और एनएसई की गणना कैसे करें?

एनएसई (इंडेक्स) की गणना सूत्र का उपयोग करके की जाती है: वर्तमान बाजार मूल्य / आधार बाजार पूंजी x 1000।

बीएसई (इंडेक्स) की गणना सूत्र का उपयोग करके की जाती है: कुल फ्री-फ्लोट मार्केट कैपिटलाइज़ेशन / बेस मार्केट कैपिटलाइज़ेशन x बेस इंडेक्स वैल्यू।

7. कोई कंपनी BSE या NSE में कैसे लिस्ट होती है?

कंपनियां संबंधित प्लेटफॉर्म पर आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के माध्यम से शेयर जारी करके बीएसई या एनएसई पर सूचीबद्ध हो जाती हैं।

8. क्या कोई कंपनी बीएसई और एनएसई दोनों में सूचीबद्ध हो सकती है?

हां, एक कंपनी बीएसई और एनएसई दोनों पर सूचीबद्ध हो सकती है। दरअसल, ज्यादातर बड़ी कंपनियां बीएसई और एनएसई दोनों पर सूचीबद्ध हैं।

9. बीएसई और एनएसई का समय क्या है?

इक्विटी के लिए बीएसई और एनएसई का समय समान है, सुबह 9:15 बजे से दोपहर 3:30 बजे तक।

10. एनएसई कैसे बीएसई से लोकप्रिय हो गया?

एनएसई बीएसई की तुलना में लोकप्रिय हो गया क्योंकि इसने भारत में डेरिवेटिव यानी फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस को पेश किया। एनएसई ने भारत में इलेक्ट्रॉनिक या स्क्रीन-आधारित व्यापार शुरू करके व्यापार उद्योग में क्रांति ला दी। इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग ने उद्योग में भारी पारदर्शिता लाई और इसलिए निवेशकों का बहुत विश्वास प्राप्त हुआ।

इसके अलावा, एनएसई में बीएसई की तुलना में अधिक चलनिधि है, जो व्यापारियों को वांछित मूल्य पर स्टॉक खरीदने और बेचने की अनुमति देता है।

हम आशा करते हैं कि आप विषय के बारे में स्पष्ट हैं। लेकिन ट्रेडिंग और निवेश के संबंध में और भी अधिक सीखने और अन्वेषण करने के लिए, हम आपको उन महत्वपूर्ण विषयों और क्षेत्रों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए:

स्टॉक मार्केट में वॉल्यूम क्या है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

All Topics
Kick start your Trading and Investment Journey Today!
Related Posts
Benefits Of Convertible Bonds In Hindi
Hindi

कन्वर्टिबल बॉन्ड्स के लाभ – Benefits Of Convertible Bonds in Hindi

कन्वर्टिबल बॉन्ड्स का मुख्य लाभ उनकी दोहरी प्रकृति है, जो निश्चित आय सुरक्षा और इक्विटी अपसाइड की पेशकश करते हैं। यह सुविधा निवेशकों को नियमित

EBITDA Margin Meaning In Hindi
Hindi

EBITDA मार्जिन क्या है – EBITDA Margin Meaning in Hindi

EBITDA मार्जिन एक वित्तीय अनुपात है जो किसी कंपनी की लाभकारीता का मापदंड होता है, जो इसकी कुल राजस्व को उसकी कमाई (EBITDA) से तुलना

Enjoy Low Brokerage Demat Account In India

Save More Brokerage!!

We have Zero Brokerage on Equity, Mutual Funds & IPO