Masala Bond In Hindi

मसाला बांड क्या है? – Masala Bond Meaning in Hindi

मसाला बांड भारतीय रुपया-मूल्य वाले बांड हैं जो भारतीय संस्थाओं द्वारा विदेशी बाजारों में जारी किए जाते हैं। यह वित्तीय साधन जारीकर्ताओं को विदेशी निवेशकों से रुपये में धन जुटाने की अनुमति देता है। यह मुद्रा जोखिम को कम करने के लिए फायदेमंद है क्योंकि ऋण दायित्व जारीकर्ता की घरेलू मुद्रा में है। ये बांड बुनियादी ढांचा परियोजना को वित्तपोषित करने के लिए जारी किये जाते हैं।

अनुक्रमणिका:

मसाला बांड का अर्थ – Masala Bonds in Hindi

मसाला बॉन्ड वे भारतीय रुपये में मूल्यांकित बॉन्ड हैं जो विदेश में जारी किए जाते हैं, मुख्य रूप से भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के लिए। ये बॉन्ड विदेशी निवेश को आकर्षित करते हैं, लेकिन उनके धन पर प्रतिबंध होते हैं, क्योंकि वे विशेष रूप से इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए नियत होते हैं, जिससे उनका उपयोग इस महत्वपूर्ण आर्थिक क्षेत्र तक सीमित हो जाता है।

इन बॉन्ड्स को जारी करके, भारतीय संस्थाओं को एक व्यापक निवेशक आधार तक पहुँच मिलती है, जिससे बिना मुद्रा उतार-चढ़ाव के सीधे जोखिम के बिना अधिक पूंजी प्रवाह संभव होता है। यह विशेष रूप से एक अस्थिर भारतीय रुपये के समय में लाभदायक होता है, क्योंकि मुद्रा जोखिम निवेशकों के बजाय जारीकर्ताओं पर स्थानांतरित हो जाता है।

इसके अलावा, मसाला बॉन्ड उन अंतर्राष्ट्रीय निवेशकों के लिए एक वित्तीय उपकरण के रूप में काम करते हैं जो बिना मुद्रा विनिमय की जटिलताओं का सामना किए भारतीय बाजारों में निवेश करना चाहते हैं। ये भारतीय बॉन्ड बाजार को गहरा बनाने में भी मदद करते हैं, और जुटाई गई धनराशि अक्सर भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए उपयोग की जाती है, जिससे आर्थिक विकास में योगदान होता है।

मान लीजिए कि एक भारतीय कंपनी यूरोपीय बाजारों में 7% की ब्याज दर पर 1,000 करोड़ रुपये के मसाला बांड जारी करती है। अंतर्राष्ट्रीय निवेशक विनिमय दर का जोखिम उठाते हुए इन्हें खरीदते हैं, जबकि कंपनी रुपये में धन जुटाती है।

Invest In Alice Blue With Just Rs.15 Brokerage

मसाला बांड के प्रकार – Types Of Masala Bonds in Hindi

मसाला बांड के प्रकारों को आम तौर पर उनकी परिपक्वता और ब्याज भुगतान संरचना के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। अल्पावधि और दीर्घकालिक मसाला बांड के साथ-साथ निश्चित दर वाले बांड एक निर्धारित ब्याज दर और फ्लोटिंग-रेट बांड की पेशकश करते हैं जहां ब्याज बाजार की स्थितियों के साथ बदलता रहता है।

  • शॉर्ट टर्म मसाला बॉन्ड: इन बॉन्ड्स की परिपक्वता अवधि कम होती है, आमतौर पर तीन वर्ष से कम। ये उन निवेशकों के लिए उपयुक्त होते हैं जो भारतीय रुपये में मूल्यांकित संपत्तियों में अल्पकालिक जोखिम लेना चाहते हैं। अल्पकालिक बॉन्ड्स अक्सर कम जोखिम लेकर आते हैं लेकिन दीर्घकालिक बॉन्ड्स की तुलना में कम रिटर्न दे सकते हैं।
  • दीर्घकालिक मसाला बॉन्ड: तीन वर्ष से अधिक की परिपक्वता अवधि वाले ये बॉन्ड उन निवेशकों के लिए होते हैं जिनका निवेश क्षितिज लंबा होता है। दीर्घकालिक बॉन्ड्स आमतौर पर व्यापक पूंजीगत परियोजनाओं के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं, जिससे संभावित रूप से अधिक यील्ड मिल सकता है लेकिन लंबी अवधि के कारण बढ़े हुए जोखिम के साथ।
  • फिक्स्ड-रेट मसाला बॉन्ड: इन बॉन्ड्स में एक पूर्वनिर्धारित ब्याज दर होती है, जो बॉन्ड की अवधि के दौरान स्थिर रहती है। यह उन निवेशकों के लिए आकर्षक होता है जो पूर्वानुमेय आय और स्थिरता चाहते हैं, क्योंकि ये ब्याज दर के उतार-चढ़ाव से सुरक्षा प्रदान करते हैं।
  • फ्लोटिंग-रेट मसाला बांड: इन बांडों पर ब्याज दर बाजार की स्थितियों के आधार पर भिन्न होती है, जो आमतौर पर एक बेंचमार्क दर से जुड़ी होती है। वे उन निवेशकों के लिए आदर्श हैं जो संभावित ब्याज दर में बढ़ोतरी से लाभ लेना चाहते हैं लेकिन रिटर्न में उतार-चढ़ाव के जोखिम के साथ आते हैं।

मसाला बांड कैसे काम करते हैं? – How Masala Bonds Work in Hindi

मसाला बांड भारतीय संस्थाओं को अंतरराष्ट्रीय बाजारों में रुपये-मूल्य वाले बांड जारी करने की अनुमति देकर काम करता है। विदेशी निवेशक इन बांडों को खरीदते हैं, जारीकर्ता को रुपये में पैसा उधार देते हैं। जारीकर्ता मूलधन और ब्याज रुपये में चुकाता है, जिससे जारीकर्ता के लिए मुद्रा विनिमय जोखिम कम हो जाता है।

मसाला बांड के लाभ – Advantages Of Masala Bonds in Hindi

मसाला बांड के मुख्य लाभों में जारीकर्ता के लिए कम मुद्रा विनिमय जोखिम, व्यापक निवेशक आधार तक पहुंच, घरेलू बाजारों की तुलना में संभावित रूप से कम उधार लेने की लागत और निवेशकों के लिए मुद्रा जोखिम के बिना भारतीय अर्थव्यवस्था में निवेश हासिल करने का अवसर शामिल है।

  • मुद्रा जोखिम में कमी जारीकर्ता के लिए: भारतीय रुपयों में ऋण जारी करके, मसाला बॉन्ड्स निवेशकों के लिए मुद्रा विनिमय जोखिम को स्थानांतरित करते हैं। यह भारतीय संस्थाओं के लिए लाभकारी है, क्योंकि वे मुद्रा उतार-चढ़ाव के जोखिम से बचते हैं जो पुनर्भुगतान राशियों को प्रभावित कर सकता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय बाजारों तक पहुंच: मसाला बॉन्ड्स भारतीय जारीकर्ताओं को विदेशी पूंजी बाजारों तक पहुँच प्रदान करते हैं, उनके वित्तपोषण स्रोतों को विस्तृत करते हैं। यह विविधीकरण तब महत्वपूर्ण हो सकता है, विशेष रूप से जब घरेलू उधार लेने की स्थितियां प्रतिकूल या सीमित होती हैं।
  • संभावित रूप से कम उधार लागत: मसाला बॉन्ड्स जारी करना कभी-कभी घरेलू रूप से धन जुटाने की तुलना में सस्ता हो सकता है, विशेष रूप से जब ऐसे बॉन्ड्स की अंतर्राष्ट्रीय निवेशकों के बीच मांग अधिक हो, जिससे प्रतिस्पर्धी ब्याज दरें मिल सकती हैं।
  • निवेशकों के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रति जोखिम: विदेशी निवेशकों के लिए, मसाला बांड भारतीय रुपये में मूल्यवर्गीकृत परिसंपत्तियों में निवेश करने का एक तरीका प्रदान करता है, बिना प्रत्यक्ष मुद्रा जोखिम के भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास क्षमता के लिए एक्सपोजर प्रदान करता है।
  • रुपये को मजबूत करना: चूंकि ये बांड अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भारतीय रुपये की मांग को बढ़ाते हैं, वे मुद्रा को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं, जो भारतीय अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक प्रभाव डालता है।
  • भारतीय पूंजी बाजारों का विकास: मसाला बांड की सफलता भारतीय पूंजी बाजारों की अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा और विकास को बढ़ा सकती है, जो अन्य भारतीय वित्तीय साधनों में और अधिक अंतरराष्ट्रीय निवेश को प्रोत्साहित करती है।

मसाला बांड के नुकसान – Disadvantages Of Masala Bonds in Hindi

मसाला बांड के मुख्य नुकसानों में निवेशकों को स्थानांतरित किया जाने वाला मुद्रा जोखिम शामिल है, जिससे संभावित रूप से विदेशी निवेशकों की रुचि सीमित हो जाती है, और इस जोखिम के कारण उच्च ब्याज दरें होती हैं। इसके अतिरिक्त, भारतीय रुपये में उतार-चढ़ाव बांड के आकर्षण और रिटर्न को प्रभावित कर सकता है।

  • निवेशकों के लिए मुद्रा जोखिम: निवेशक मसाला बांड में मुद्रा जोखिम वहन करते हैं, क्योंकि बांड भारतीय रुपये में मूल्यवर्गीकृत होते हैं। रुपये के मूल्य में उतार-चढ़ाव रिटर्न को प्रभावित कर सकता है, जिससे कुछ अंतरराष्ट्रीय निवेशक इन बांडों को खरीदने से हतोत्साहित हो सकते हैं।
  • उच्च ब्याज दरें: जोड़े गए मुद्रा जोखिम की भरपाई के लिए, मसाला बांड निवेशकों के देश में स्थानीय मुद्रा बांड की तुलना में उच्च ब्याज दरें प्रदान कर सकते हैं। इससे जारीकर्ता संस्था के लिए उधार लेने की लागत बढ़ सकती है।
  • बाजार की सीमाएं: चूंकि मसाला बांड एक विशिष्ट उत्पाद हैं, इसलिए उनका बाजार अधिक स्थापित वैश्विक बांडों की तुलना में अपेक्षाकृत सीमित है। यह पूंजी की बड़ी मात्रा जुटाने के लिए जारीकर्ता की क्षमता को प्रतिबंधित कर सकता है।
  • नियामक और अनुपालन चुनौतियां: मसाला बांड जारी करने में भारतीय और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय विनियमों दोनों के विभिन्न नियामक आवश्यकताओं और अनुपालन का पता लगाना शामिल है, जो जटिल और समय लेने वाला हो सकता है।
  • भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव: मसाला बांड का आकर्षण भारतीय अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य से निकटता से जुड़ा हुआ है। भारत में आर्थिक मंदी या अस्थिरता इन बांडों की मांग को कम कर सकती है।

मसाला बांड के बारे में त्वरित सारांश 

  • मसाला बांड भारतीय संस्थाओं को अंतर्राष्ट्रीय बाजारों से भारतीय रुपये में धन जुटाने में सक्षम बनाते हैं, जारीकर्ताओं के लिए मुद्रा विनिमय जोखिम को कम करते हैं। यह विधि विदेशी मुद्रा उधार से जुड़ी अस्थिरता से बचते हुए विदेशी निवेश को आकर्षित करती है।
  • मसाला बॉन्ड के प्रकारों में अल्पकालिक और दीर्घकालिक किस्में शामिल हैं, जिनकी विशेषता उनकी परिपक्वता अवधि है। वे निर्धारित ब्याज दरों वाले निश्चित-दर बांडों और परिवर्तनीय ब्याज दरों वाले अस्थिर-दर बांडों में आगे विभाजित होते हैं।
  • मसाला बांड भारतीय संस्थाओं को रुपये में मूल्यवान बांड अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जारी करने में सक्षम बनाता है। विदेशी निवेशक रुपये में उधार देते हैं, जिससे जारीकर्ताओं के लिए मुद्रा जोखिम कम हो जाता है जो मूलधन और ब्याज का भुगतान एक ही मुद्रा में करते हैं।
  • मसाला बांड के मुख्य लाभ जारीकर्ताओं के लिए न्यूनतम मुद्रा जोखिम, व्यापक निवेशक पहुंच, घरेलू बाजारों की तुलना में संभवतः कम उधार लागत, और मुद्रा जोखिम के बिना भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए निवेशक एक्सपोजर हैं।
  • मसाला बांड के मुख्य नुकसान निवेशकों को मुद्रा जोखिम का हस्तांतरण हैं, संभवतः विदेशी निवेश को हतोत्साहित करना, और इस जोखिम के कारण उच्च ब्याज दरें। भारतीय रुपये में उतार-चढ़ाव भी आकर्षण और रिटर्न को प्रभावित करता है।
  • आज ही एलिस ब्लू के साथ 15 मिनट में मुफ्त डीमैट खाता खोलें! स्टॉक्स, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड और आईपीओ में निःशुल्क निवेश करें। साथ ही, सिर्फ ₹15/ऑर्डर पर ट्रेड करें और हर ऑर्डर पर 33.33% ब्रोकरेज बचाएं।
Invest in Mutual fund, IPO etc with just Rs.0

भारत में मसाला बांड के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

मसाला बांड क्या है?

मसाला बांड एक वित्तीय साधन है जो भारतीय संस्थाओं को अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में रुपये में मूल्यवर्गीकृत बांड जारी करके विदेशी निवेशकों से रुपये में धन जुटाने की अनुमति देता है, जारीकर्ता के लिए मुद्रा विनिमय जोखिम को कम करता है।

मसाला बांड किसने पेश किया?

मसाला बांड को नवंबर 2014 में विश्व बैंक समूह के सदस्य, अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (IFC) द्वारा भारतीय रुपये को वैश्विक बनाने और भारत में निजी क्षेत्र के निवेश को वित्तपोषित करने के लिए पेश किया गया था।

मसाला बांड की ब्याज दर क्या है?

मसाला बांड की ब्याज दर बाजार की स्थिति, जारीकर्ता की साख और बांड की अवधि के आधार पर भिन्न होती है। यह आमतौर पर प्रचलित भारतीय ब्याज दरों के अनुरूप होता है लेकिन मुद्रा जोखिम प्रीमियम के कारण अधिक हो सकता है।

मसाला बांड में कौन निवेश कर सकता है?

मसाला बांड में संस्थागत निवेशक, कॉरपोरेट्स और भारतीय बाजार में रुचि रखने वाले अन्य विदेशी निवेशक निवेश कर सकते हैं, जो बिना प्रत्यक्ष मुद्रा जोखिम के भारतीय रुपये के निवेश के लिए एक्सपोजर प्रदान करते हैं।

मसाला बांड की न्यूनतम परिपक्वता क्या है?

मसाला बांड के लिए न्यूनतम परिपक्वता अवधि तीन वर्ष है। यह आवश्यकता बाहरी उधार में स्थिरता सुनिश्चित करने और बांड को जारीकर्ताओं की दीर्घकालिक निवेश योजनाओं के साथ संरेखित करने के लिए निर्धारित की गई है।

मसाला बांड पर कर क्या है?

विदेशी निवेशकों के लिए मसाला बांड पर कर भारतीय विनियमों के अधीन है, जिसमें आमतौर पर ब्याज आय पर टीडीएस शामिल होता है। हालांकि, विदेशी निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए रियायती कर दरों की अवधि रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All Topics
Related Posts
VWAP vs TWAP In Hindi
Hindi

VWAP बनाम TWAP – VWAP vs TWAP in Hindi 

VWAP (वॉल्यूम वेटेड एवरेज प्राइस) और TWAP (टाइम वेटेड एवरेज प्राइस) के बीच मुख्य अंतर यह है कि VWAP अपनी गणना में वॉल्यूम को ध्यान