Difference Between FII and DII Hindi

FII बनाम DII – Difference Between FII and FII in Hindi 

मुख्य अंतर विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) और घरेलू संस्थागत निवेशक (DII) में यह है कि FII में विदेशी पूंजी होती है, जो आमतौर पर देश से बाहर के निवेशकों या संस्थानों से आती है। वहीं, DII में घरेलू पूंजी होती है, जो उसी देश के निवेशकों या संस्थानों से आती है।

अनुक्रमणिका:

FII और DII का मतलब – FII and DII Meaning in Hindi 

विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) वे प्रतिष्ठान हैं जो भारत के बाहर पंजीकृत हैं और भारत के वित्तीय बाजार में निवेश करते हैं। वहीं, घरेलू संस्थागत निवेशक (DII) ऐसे संस्थान हैं जैसे कि म्यूचुअल फंड, बीमा कंपनियां और पेंशन फंड, जो भारत में पंजीकृत हैं और भारतीय बाजारों में निवेश करते हैं।

उदाहरण के लिए, अगर अमेरिका की निवेश कंपनी वैंगार्ड ग्रुप, भारतीय इक्विटी में निवेश करती है, तो इसे FII माना जाएगा। उल्टा, अगर भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) उसी इक्विटी में निवेश करता है, तो इसे DII के रूप में श्रेणीबद्ध किया जाएगा।

DII बनाम FII – DII Vs FII in Hindi 

मुख्य अंतर विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) और घरेलू संस्थागत निवेशक (DII) में यह है कि FII वे निवेशक या प्रतिष्ठान हैं जो देश के बाहर स्थित हैं, जबकि DII वह पूंजी है जो देश के अंदर ही स्थित निवेशकों या संस्थानों से आती है।

पैरामीटरDIIFII
पूंजी का स्रोतघरेलूविदेश
नियामक संस्थाSEBI (भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड)SEBI और संबंधित विदेशी नियामक निकाय
निवेश फोकसआम तौर पर दीर्घकालिकअल्पकालिक या दीर्घकालिक हो सकता है
बाज़ार प्रभावबाज़ार को स्थिर करता हैअस्थिरता पैदा हो सकती है
कर उपचारभारतीय कर कानूनों के अधीनदोहरे कराधान से बचाव समझौते के अधीन (DTAA)
संपत्ति के प्रकारइक्विटी, बांड, रियल एस्टेटइक्विटी, बांड, डेरिवेटिव
आर्थिक प्रभावविदेशी मुद्रा भंडार पर कम प्रभावविदेशी मुद्रा भंडार पर महत्वपूर्ण प्रभाव

विषय को समझने के लिए और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, नीचे दिए गए संबंधित स्टॉक मार्केट लेखों को अवश्य पढ़ें।

आयरन कोंडोर
स्वैप कॉन्ट्रैक्ट क्या है?
OFS बनाम IPO
STT और CTT शुल्क
पुट विकल्प क्या होता है?

FII बनाम DII के बारे में त्वरित सारांश

  • FII में विदेशी पूंजी शामिल है, जबकि DII में घरेलू पूंजी शामिल है।
  • DII और FII के बीच मुख्य अंतर पूंजी का स्रोत है। DII घरेलू पूंजी का उपयोग करता है, जबकि FII विदेशी पूंजी का उपयोग करता है।
  • Alice Blue आपको शेयरों, म्यूचुअल फंड्स, और IPOs में निवेश करने में मुफ्त में मदद कर सकता है। वे यह भी प्रदान करते हैं Margin Trade Funding सुविधा, जहां आप 4x मार्जिन का उपयोग करके शेयर खरीद सकते हैं अर्थात्, आप केवल ₹ 2500 में ₹ 10000 के शेयर खरीद सकते हैं।

DII Vs FII के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न 

1. DII और FII में क्या अंतर है?

DII और FII के बीच मुख्य अंतर निवेश पूंजी की उत्पत्ति में है: FII में विदेशी पूंजी शामिल है और DII में घरेलू पूंजी शामिल है।

2. FII और DII के उदाहरण क्या हैं?

FII के उदाहरण में Vanguard Group और BlackRock शामिल हैं, जबकि DII के उदाहरण में भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) और HDFC म्यूचुअल फंड शामिल हैं।

3. DII निवेशक कौन हैं?

घरेलू संस्थागत निवेशक (DII) वे संगठन हैं जो अपने देश के वित्तीय बाजार में निवेश करते हैं। HDFC AMC और LIC घरेलू संस्थागत निवेशक (DII) में सबसे सामान्य प्रकार के निवेशक हैं।

4. FII को ‘हॉट मनी’ क्यों कहा जाता है?

लोग अक्सर FII को “हॉट मनी” कहते हैं क्योंकि यह बाजारों में तेजी से आवाजाही कर सकता है, जिससे उनमें परिस्थितिकता हो सकती है।

5. भारत में FII का नियामक कौन है?

भारत में, FII को मुख्य रूप से सेक्युरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) द्वारा नियमित किया जाता है।

6. FII और DII डेटा का विश्लेषण कैसे किया जाता है?

FII और DII डेटा का विश्लेषण करना निवेश पैटर्न, बाजार की प्रवृत्तियों और स्टॉक मूल्य और बाजार सूचकांक पर प्रभाव को देखना होता है।

हम आशा करते हैं कि आप विषय के बारे में स्पष्ट हैं। लेकिन ट्रेडिंग और निवेश के संबंध में और भी अधिक सीखने और अन्वेषण करने के लिए, हम आपको उन महत्वपूर्ण विषयों और क्षेत्रों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए:।

म्युचुअल फंड में निवेश के टैक्स लाभ
सबसे अच्छे रियल एस्टेट स्टॉक्स
स्टॉक और बांड मैं क्या अंतर है?
डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट में अंतर
सब ब्रोकर क्या होता है?
ब्रैकेट ऑर्डर क्या है?
SEBI क्या है?
आयरन कोंडोर
OFS बनाम IPO
पुट विकल्प क्या होता है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All Topics