January 4, 2024

MTM Full Form Hindi

MTM फुल फॉर्म – MTM Full Form in Hindi 

MTM का पूर्ण रूप मार्क-टू-मार्केट है, जो मौजूदा बाजार मूल्यों पर परिसंपत्तियों और देनदारियों का मूल्य निर्धारण करने के लिए लेखांकन और व्यापार में उपयोग की जाने वाली एक विधि है। इससे निवेशकों को उनकी होल्डिंग्स के वास्तविक समय मूल्य की स्पष्ट समझ हो पाती है।

अनुक्रमणिका:

MTM क्या है? – MTM Meaning in Hindi

मार्क-टू-मार्केट (MTM) संपत्तियों और दायित्वों को उनके मूल खरीद मूल्यों के बजाय उनके वर्तमान बाजार मूल्यों पर मूल्यांकन करने की एक विधि है। पारंपरिक लेखांकन के विपरीत, MTM आपको आपकी संपत्तियों और दायित्वों के वास्तविक मूल्य का नवीनतम अवलोकन प्रदान करता है।

यह व्यापार और निवेश जैसे क्षेत्रों में सुविधाजनक होता है, जहाँ मूल्य निरंतर बदलते रहते हैं। MTM का उपयोग करके, आप बाजार के वर्तमान मूड के अनुरूप निर्णय ले सकते हैं। यह व्यवसायों और निवेशकों को कंपनी के वित्तीय स्वास्थ्य की अधिक सटीक तस्वीर प्राप्त करने में मदद करता है।

मार्क टू मार्केट उदाहरण – Mark To Market Example in Hindi 

मान लीजिए श्री शर्मा ने XYZ लिमिटेड के 100 शेयर प्रत्येक ₹500 में खरीदे, कुल मिलाकर ₹50,000 में। तीन महीने बाद, शेयर की कीमत बढ़कर ₹550 हो जाती है। मार्क टू मार्केट (MTM) का उपयोग करते हुए, उनके निवेश का मूल्य ₹55,000 तक समायोजित हो जाता है, जो बिना शेयर बेचे ₹5,000 के अवास्तविक लाभ को दर्शाता है।

यह अपडेटेड नंबर श्री शर्मा और किसी अन्य व्यक्ति को निवेश के वास्तविक समय मूल्य पर नज़र रखने में मदद करता है। MTM यह भी दिखाता है कि जो लाभ या हानि अभी तक नकदी में नहीं बदली गई है, उन्हें प्रमुखता से दिखाता है, जिससे यह देखना आसान हो जाता है कि निवेश समय के साथ कितना अच्छा कर रहा है।

मार्क टू मार्केट फॉर्मूला – Mark To Market Formula in Hindi 

मार्क टू मार्केट सूत्र

मार्क टू मार्केट (MTM) का सूत्र काफी सरल है। यह एक वित्तीय उपकरण के मूल मूल्य से उसके वर्तमान बाजार मूल्य को घटाकर गणना किया जाता है। सूत्र है:

MTM = वर्तमान बाजार मूल्य − मूल खरीद मूल्य

उदाहरण के लिए, यदि आपने एक शेयर ₹200 में खरीदा और अब इसका बाजार मूल्य ₹250 है, तो MTM मूल्य ₹50 होगा (₹250 – ₹200)। यह अंतर संपत्ति रखने से हुआ अवास्तविक लाभ है, जो केवल तब वास्तविक लाभ बनेगा जब संपत्ति बेची जाएगी।

MTM के फायदे और नुकसान – Advantages & Disadvantages Of MTM in Hindi 

मार्क-टू-मार्केट (MTM) का मुख्य लाभ यह है कि यह संपत्तियों और दायित्वों का वास्तविक समय में मूल्यांकन प्रदान करता है, जो सटीक वित्तीय रिपोर्टिंग के लिए महत्वपूर्ण है। यह विधि सुनिश्चित करती है कि वित्तीय विवरण खरीद मूल्य के बजाय वर्तमान बाजार मूल्य को प्रतिबिंबित करते हैं, जिससे कंपनी के वित्तीय स्वास्थ्य की एक पारदर्शी तस्वीर प्रदान की जाती है।

  • जोखिम प्रबंधन: वर्तमान बाजार मूल्य प्रदान करके यह बेहतर जोखिम प्रबंधन में मदद करता है।
  • पारदर्शिता: संपत्ति या दायित्व के वर्तमान मूल्य की स्पष्ट तस्वीर प्रदान करके यह पारदर्शिता बढ़ाता है।
  • लाभ और हानि की मान्यता: MTM लाभ और हानि की जल्दी मान्यता की अनुमति देता है।
  • सुधारित निर्णय लेना: वर्तमान बाजार परिदृश्य को प्रतिबिंबित करके यह बेहतर निर्णय लेने में मदद करता है।

MTM लेखांकन का प्रमुख नुकसान यह है कि इससे कंपनी की रिपोर्ट की गई आय में महत्वपूर्ण उतार-चढ़ाव हो सकते हैं। चूंकि MTM संपत्तियों और दायित्वों का मूल्यांकन वर्तमान बाजार की स्थितियों के आधार पर करता है, यह अस्थिर बाजारों में लाभ या हानि को बढ़ा सकता है, जिससे कंपनी की दीर्घकालिक वित्तीय स्थिरता का कागज पर विकृति हो सकती है।

  • अल्पकालिक फोकस: यह दीर्घकालिक स्थिरता की कीमत पर अल्पकालिक फोकस को बढ़ावा दे सकता है।
  • बाजार का मैनिपुलेशन: ट्रेडर्स द्वारा बाजार मूल्यों का मैनिपुलेशन करने की संवेदनशीलता के कारण यह बाजार मैनिपुलेशन के प्रति असुरक्षित हो सकता है।

मार्क टू मार्केट बनाम फेयर वैल्यू – Mark To Market Vs Fair Value in Hindi 

मार्क टू मार्केट (MTM) और फेयर वैल्यू के बीच मुख्य अंतर यह है कि MTM मुख्य रूप से ट्रेडिंग और निवेश उद्योग में प्रयोग किया जाता है, जबकि फेयर वैल्यू लेखांकन और ऑडिटिंग में प्रयुक्त एक व्यापक शब्द है।

मार्क टू मार्केट (MTM) सक्रिय बाजार मूल्यों के आधार पर वर्तमान मूल्यांकन प्रदान करता है, जो वास्तविक समय निवेश निर्णयों के लिए महत्वपूर्ण है। इसके विपरीत, फेयर वैल्यू व्यापक मूल्यांकन तकनीकों और भविष्य की स्थितियों के बारे में धारणाओं को शामिल करता है, जो दीर्घकालिक निवेश विश्लेषण और वित्तीय योजना के लिए आवश्यक हैं।

नीचे सात पैरामीटरों के आधार पर एक तुलना तालिका दी गई है:

पैरामीटरबाज़ार तक पहूंचेंउचित मूल्य
परिभाषावर्तमान बाजार मूल्य पर मूल्यांकनमूल्यांकन में व्यक्तिगत परिस्थितियाँ सम्मिलित हैं
प्रयोगव्यापार और निवेशलेखा और लेखा परीक्षण
उद्देश्यवास्तविक मूल्य का एहसास करेंआंतरिक मूल्य का अनुमान लगाएं
बाज़ार पर निर्भरताअत्यधिक निर्भरकम निर्भर
मूल्यांकन आवृत्तिदैनिकसमय-समय
अस्थिरता का प्रभावउच्चमध्यम
नियामक ढांचाव्यापारिक नियमों द्वारा शासितलेखांकन मानकों द्वारा शासित

विषय को समझने के लिए और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, नीचे दिए गए संबंधित स्टॉक मार्केट लेखों को अवश्य पढ़ें।

स्विंग ट्रेडिंग का अर्थ
स्टॉक एक्सचेंज और कमोडिटी एक्सचेंज के बीच अंतर
पोजिशनल ट्रेडिंग क्या है?
FPI का मतलब
हाई बीटा स्टॉक का मतलब
ट्रेजरी बिल का मतलब
पूँजी बाजार की विशेषताएं
आईपीओ (IPO) के लाभ
DII क्या है?

MTM फुल फॉर्म – त्वरित सारांश

  • MTM का अर्थ है मार्क टू मार्केट, यह एक विधि है जिससे संपत्तियों और दायित्वों का मूल्यांकन बाजार की कीमतों पर किया जाता है।
  • MTM वित्तीय रिपोर्टिंग में यथार्थवादी मूल्यांकन और पारदर्शिता प्रदान करता है।
  • एक उदाहरण के माध्यम से समझाया गया है कि MTM बैलेंस शीट के मूल्यों को कैसे प्रभावित करता है।
  • Alice Blue आपको बिना किसी लागत के निवेश करने में मदद कर सकता है। हम मार्जिन ट्रेड फंडिंग सुविधा भी प्रदान करते हैं, जहाँ आप 4x मार्जिन का उपयोग कर सकते हैं यानी, आप केवल ₹ 2,500 में ₹ 10,000 के शेयर खरीद सकते हैं।

MTM क्या है? – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. मार्क टू मार्केट क्या है?

मार्क टू मार्केट (MTM) एक मूल्यांकन पद्धति है जिसका उपयोग वित्त में मौजूदा बाजार कीमतों पर परिसंपत्तियों और देनदारियों के मूल्य का मूल्यांकन करने के लिए किया जाता है। यह विधि परिसंपत्तियों और देनदारियों के वास्तविक मूल्य को दर्शाती है, जो किसी इकाई के वित्तीय स्वास्थ्य की स्पष्ट तस्वीर प्रदान करती है।

2. MTM की गणना कैसे की जाती है?

MTM की गणना किसी परिसंपत्ति या देनदारी की मूल लागत को उसके मौजूदा बाजार मूल्य से घटाकर की जाती है। MTM = वर्तमान बाजार मूल्य-मूल खरीद मूल्य

3. वायदा बाजार में मार्क टू मार्केट क्या है?

वायदा कारोबार में, MTM में मौजूदा बाजार मूल्य को प्रतिबिंबित करने के लिए वायदा अनुबंध के मूल्य को समायोजित करना शामिल है। यह प्रक्रिया सुनिश्चित करती है कि मार्जिन खातों को वर्तमान मूल्य पर अद्यतन किया जाता है, जिससे बाजार में उतार-चढ़ाव से जुड़े जोखिम कम हो जाते हैं।

4. MTM लाभ है या हानि?

MTM के परिणामस्वरूप लाभ या हानि हो सकती है, जो खरीद मूल्य और मौजूदा बाजार मूल्य के बीच के अंतर पर निर्भर करता है। यदि बाजार मूल्य अधिक है, तो इसका परिणाम लाभ होता है, और इसके विपरीत।

5. MTM और पी एंड एल में क्या अंतर है?

MTM और लाभ और हानि (पी एंड एल) के बीच प्राथमिक अंतर यह है कि MTM परिसंपत्तियों और देनदारियों के वर्तमान बाजार मूल्य को दर्शाता है, जबकि पी एंड एल राजस्व, लागत और किए गए खर्चों को दर्शाते हुए एक निश्चित अवधि में वित्तीय प्रदर्शन को दर्शाता है।

हम आशा करते हैं कि आप विषय के बारे में स्पष्ट हैं। लेकिन ट्रेडिंग और निवेश के संबंध में और भी अधिक सीखने और अन्वेषण करने के लिए, हम आपको उन महत्वपूर्ण विषयों और क्षेत्रों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए:

फोलियो नंबर क्या है?
भारत में सर्वश्रेष्ठ कॉर्पोरेट बांड
NPA क्या है?
ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है
ब्रोकर टर्मिनल क्या है?
CNC का क्या मतलब होता है?
MCX क्या है?
स्वैप कॉन्ट्रैक्ट क्या है?
OFS बनाम IPO
FII बनाम DII
पुट विकल्प क्या होता है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

All Topics
Kick start your Trading and Investment Journey Today!
Related Posts

निफ्टी नेक्स्ट 50 स्टॉक्स – Nifty Next 50 Stocks

निफ्टी नेक्स्ट 50 इंडेक्स में निफ्टी 100 इंडेक्स की 50 कंपनियां शामिल हैं, निफ्टी 50 में शामिल कंपनियों को छोड़कर। फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन पद्धति

इक्विटी शेयर पूंजी के प्रकार – Types Of Equity Share Capital

अधिकृत शेयर पूंजी जारी की गयी शेयर पूंजी सब्स्क्राइब्ड शेयर पूंजी सही शेयर स्वेट इक्विटी शेयर प्रदत्त पूंजी बोनस शेयर इक्विटी शेयर पूंजी का अर्थ

Download Alice Blue Mobile App

Enjoy Low Brokerage Demat Account In India

Save More Brokerage!!

We have Zero Brokerage on Equity, Mutual Funds & IPO