ट्रेजरी नोट्स बनाम ट्रेजरी बांड - Difference Between Treasury Notes and Bonds in Hindi 

ट्रेजरी नोट्स बनाम ट्रेजरी बांड – Difference Between Treasury Notes and Bonds in Hindi 

ट्रेजरी नोट्स और बॉन्ड्स के बीच मुख्य अंतर यह है कि ट्रेजरी नोट्स की परिपक्वता आमतौर पर 1 से 10 वर्षों में होती है, जबकि ट्रेजरी बॉन्ड्स की परिपक्वता अधिक होती है, जो 10 से 30 वर्षों तक हो सकती है। ट्रेजरी नोट्स को सामान्यतः मध्यम-अवधि के निवेश के रूप में माना जाता है, जबकि ट्रेजरी बॉन्ड्स लंबी-अवधि के लिए होते हैं।

अनुक्रमणिका:

ट्रेजरी नोट्स का अर्थ – Treasury Notes Meaning in Hindi 

ट्रेजरी नोट एक सरकारी ऋण सुरक्षा होती है जिसमें एक निश्चित ब्याज दर होती है और इसकी परिपक्वता अवधि 1 से 10 वर्षों के बीच होती है। सरकार द्वारा जारी किए गए, ये नोट्स एक सुरक्षित निवेश विकल्प माने जाते हैं।

ट्रेजरी नोट्स सरकारों द्वारा विभिन्न खर्चों के लिए धन जुटाने का एक तरीका के रूप में काम करते हैं। निवेशकों को अर्ध-वार्षिक ब्याज भुगतान प्राप्त होता है, और मूल राशि परिपक्वता पर वापस की जाती है। इनके मध्यम-अवधि स्वभाव के कारण, वे तरलता और उचित रिटर्न के बीच संतुलन प्रदान करते हैं, जिससे ये विभिन्न प्रकार के निवेशकों के बीच लोकप्रिय होते हैं।

ट्रेजरी बांड क्या है? – Treasury Bond Meaning in Hindi 

ट्रेजरी बॉन्ड एक दीर्घकालिक सरकारी ऋण सुरक्षा है जिसकी परिपक्वता अवधि 10 से 30 वर्षों की होती है। सरकार द्वारा जारी किए गए, ये बॉन्ड सरकार के विभिन्न खर्चों को वित्त पोषित करने का एक साधन हैं।

ट्रेजरी बॉन्ड्स की विशेषता इनके दीर्घकालिक स्वभाव और निश्चित ब्याज दर भुगतानों से होती है, जो आमतौर पर अर्ध-वार्षिक रूप से किये जाते हैं। चूंकि सरकार इन्हें समर्थन देती है, इसलिए इन्हें अत्यधिक सुरक्षित निवेश माना जाता है।

इन बॉन्ड्स की लंबी परिपक्वता अवधि उन्हें उन निवेशकों के लिए उपयुक्त बनाती है जो स्थिर, दीर्घकालिक आय स्रोतों की तलाश कर रहे हैं और वे जो ब्याज दर में परिवर्तनों के कारण संभावित मूल्य उतार-चढ़ाव सहन करने को तैयार हैं।

ट्रेजरी नोट्स और ट्रेजरी बांड के बीच अंतर – Difference Between Treasury Notes And Bonds in Hindi 

ट्रेजरी नोट्स और बॉन्ड्स के बीच मुख्य अंतर उनकी परिपक्वता अवधि में है: ट्रेजरी नोट्स 1 से 10 वर्षों में परिपक्व होते हैं, जबकि ट्रेजरी बॉन्ड्स की लंबी परिपक्वता 10 से 30 वर्षों तक होती है।

अधिक विस्तार से अंतर समझने के लिए, यहाँ एक विस्तृत तालिका है:

विशेषताट्रेजरी नोट्सट्रेजरी बांड
परिपक्वता अवधि1 से 10 वर्ष10 से 30 वर्ष
ब्याज भुगतानअर्द्ध वार्षिकअर्द्ध वार्षिक
निवेश उद्देश्यमध्यम अवधि की आय और तरलतादीर्घकालिक आय स्थिरता
ब्याज दरों के प्रति मूल्य संवेदनशीलतामध्यमउच्च
निवेशकों के लिए उपयुक्तताछोटी अवधि के निवेश चाहने वालों द्वारा पसंद किया जाता हैसेवानिवृत्ति निधि जैसे दीर्घकालिक निवेशकों को आकर्षित करता है
जोखिम प्रोफाइलकीमत में उतार-चढ़ाव का कम जोखिमलंबी परिपक्वता के कारण अधिक जोखिम

विषय को समझने के लिए और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, नीचे दिए गए संबंधित स्टॉक मार्केट लेखों को अवश्य पढ़ें।

राज्य विकास ऋण
ट्रेजरी स्टॉक
योग्य संस्थागत प्लेसमेंट
शून्य कूपन बॉन्ड
ट्रेजरी नोट्स
पुटेबल बॉन्ड्स
कॉलेबल बॉन्ड्स
परिवर्तनीय बॉन्ड्स

ट्रेजरी नोट्स और बांड के बीच अंतर – त्वरित सारांश

  1. ट्रेजरी नोट्स 1 से 10 वर्षों में परिपक्व होते हैं, जो मध्यम-अवधि के निवेश के लिए उपयुक्त होते हैं, जबकि ट्रेजरी बॉन्ड्स की परिपक्वता 10 से 30 वर्षों तक होती है, जो दीर्घकालिक आय के लिए आदर्श होते हैं।
  2. ट्रेजरी नोट्स सरकारी ऋण सुरक्षा होते हैं जिनकी परिपक्वता 1 से 10 वर्षों की होती है, जो अर्ध-वार्षिक ब्याज भुगतान और तरलता और रिटर्न के बीच संतुलन प्रदान करते हैं।
  3. ट्रेजरी बॉन्ड्स दीर्घकालिक सरकारी ऋण सुरक्षा होते हैं जिनकी परिपक्वता 10 से 30 वर्षों तक होती है, जो स्थिर, दीर्घकालिक आय के साथ अर्ध-वार्षिक ब्याज भुगतान प्रदान करते हैं।
  4. ट्रेजरी नोट्स मध्यम-अवधि के निवेश के लिए होते हैं जिनमें मध्यम ब्याज दर संवेदनशीलता होती है, जबकि बॉन्ड्स दीर्घकालिक निवेश के लिए होते हैं जिनमें अधिक ब्याज दर संवेदनशीलता होती है।
  5. एलिस ब्लू के साथ मुफ्त में स्टॉक मार्केट में निवेश करें।

ट्रेजरी नोट्स बनाम बांड – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

ट्रेजरी नोट्स और ट्रेजरी बॉन्ड्स में क्या अंतर है?

ट्रेजरी नोट्स और ट्रेजरी बॉन्ड्स के बीच मुख्य अंतर यह है कि ट्रेजरी नोट्स मध्यम-अवधि की सुरक्षाएं होती हैं जिनकी परिपक्वता 1 से 10 वर्षों तक होती है, जबकि ट्रेजरी बॉन्ड्स दीर्घकालिक सुरक्षाएं होती हैं जिनकी परिपक्वता 10 से 30 वर्षों तक होती है।

बॉन्ड्स या ट्रेजरी बिल्स में से कौन बेहतर है?

बॉन्ड्स और ट्रेजरी बिल्स के बीच चयन निवेशक के समय क्षितिज और जोखिम सहनशीलता पर निर्भर करता है। बॉन्ड्स लंबी परिपक्वता और संभावित रूप से अधिक रिटर्न प्रदान करते हैं लेकिन उनमें ब्याज दर जोखिम अधिक होता है, जबकि ट्रेजरी बिल्स अल्पकालिक सुरक्षाएं होती हैं जिनमें कम जोखिम और कम रिटर्न होता है।

क्या ट्रेजरी नोट्स परिपक्वता पर ब्याज का भुगतान करते हैं?

ट्रेजरी नोट्स अर्ध-वार्षिक ब्याज का भुगतान करते हैं और परिपक्वता पर मूल राशि वापस करते हैं। वे परिपक्वता पर ब्याज का भुगतान नहीं करते हैं बल्कि उनकी अवधि के दौरान करते हैं, जिससे वे निवेशकों के लिए नियमित आय का एक विश्वसनीय स्रोत बनते हैं।

वर्तमान टी नोट दर क्या है?

वर्तमान टी नोट दर बाजार की स्थितियों के आधार पर बदलती रहती है। निवेशक आमतौर पर नवीनतम दरों के लिए वित्तीय समाचार या केंद्रीय बैंक की वेबसाइट को देखते हैं। ये दरें बाजार के दीर्घकालिक आर्थिक स्थितियों पर नजरिये के महत्वपूर्ण संकेतक होती हैं।

आरबीआई में टी बिल्स की रिटर्न दर क्या है?

भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी किए गए ट्रेजरी बिल्स की रिटर्न दर बाजार की मांग और आपूर्ति के आधार पर बदलती रहती है। वर्तमान दरें आरबीआई की आधिकारिक वेबसाइट या वित्तीय समाचार स्रोतों पर उपलब्ध होती हैं, जो भारतीय सरकार की अल्पकालिक उधारी लागत को प्रतिबिंबित करती हैं।

हम आशा करते हैं कि आप विषय के बारे में स्पष्ट हैं। लेकिन ट्रेडिंग और निवेश के संबंध में और भी अधिक सीखने और अन्वेषण करने के लिए, हम आपको उन महत्वपूर्ण विषयों और क्षेत्रों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए:

म्यूचुअल फंड और हेज फंड के बीच अंतर
भारत में ऑटो सेक्टर स्टॉक की सूची
फ्यूचर एंड ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है?
एल्गो / एल्गोरिथम ट्रेडिंग क्या है?
सब ब्रोकर कैसे बनें?
लिमिट ऑर्डर क्या है?
NSE क्या है?
आयरन कोंडोर
OFS बनाम IPO
STT और CTT शुल्क
पुट विकल्प क्या होता है?
All Topics
Related Posts

STOP PAYING

₹ 20 BROKERAGE

ON TRADES !

Trade Intraday and Futures & Options