Valuation of Shares Meaning in Hindi

शेयर वैल्यूएशन क्या होता है? – Valuation of Shares Meaning in Hindi

यह समझना कि कोई स्टॉक ‘सस्ता’ है, शेयर की कीमत पर नहीं, बल्कि कंपनी के आंतरिक या वास्तविक मूल्य पर निर्भर करता है। इस तरह आप किसी स्टॉक को महत्व देते हैं। किसी स्टॉक के आंतरिक मूल्य का मूल्यांकन करने की प्रक्रिया को स्टॉक वैल्यूएशन कहा जाता है।

विषय:

शेयरों के मूल्यांकन का अर्थ – Valuation of Securities in Hhindi

स्टॉक वैल्यूएशन स्टॉक के आंतरिक मूल्य को निर्धारित करने का एक तरीका है। स्टॉक का आंतरिक मूल्य या सैद्धांतिक मूल्य इसके मौजूदा बाजार मूल्य से जुड़ा या जुड़ा नहीं है। इसलिए, स्टॉक वैल्यूएशन बहुत अधिक महत्व रखता है।

एक बार जब कोई निवेशक किसी स्टॉक के आंतरिक मूल्य को जानता है, तो वह यह पता लगा सकता है कि स्टॉक का मौजूदा बाजार मूल्य से अधिक या कम मूल्य है या नहीं। यह भविष्य की कीमत और स्टॉक की संभावित गति की भविष्यवाणी करने में भी मदद करता है।

कुछ निश्चित फ़ार्मुलों और विधियों का उपयोग करके, एक निवेशक स्टॉक या शेयर के मूल्य का पता लगा सकता है। सभी विधियाँ कुछ निर्धारित मापदंडों पर काम करती हैं जो आपको स्टॉक का मूल्य निर्धारित करने में मदद करती हैं। कुछ पैरामीटर कंपनी के फंडामेंटल हैं, स्टॉक के प्रदर्शन पर रिपोर्ट, सेक्टोरल ट्रेंड आदि।

मूल्यांकन की अवश्यकता? 

स्टॉक मूल्यांकन महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके माध्यम से हम स्टॉक के आंतरिक मूल्य को निर्धारित कर सकते हैं, जो हमें स्टॉक की बिक्री या खरीद के निर्णय लेने में मदद करता है। इसके साथ ही, इसका उपयोग करके हम स्टॉक के मौजूदा बाजार मूल्य की गहराई जान सकते हैं और बाजार में होने वाली घटनाओं और प्रतिक्रियाओं की तैयारी कर सकते हैं। 

इस प्रकार के विश्लेषण से हमें स्टॉक मार्केट के घुटने के बल चलने वाली संकेतों को समझने में मदद मिलती है और हमें सही समय पर निवेश करने या बेचने का निर्णय लेने में मदद करती है।

स्टॉक मूल्यांकन के तरीके

स्टॉक मूल्यांकन की दो मुख्य विधियाँ हैं: यील्ड विधि और शुद्ध संपत्ति विधि। यील्ड विधि में शेयर का मूल्यांकन उसकी आय योग्यता पर आधारित होता है, जबकि शुद्ध संपत्ति विधि में कंपनी के सम्पत्ति और कर्ज के आधार पर शेयर का मूल्यांकन होता है। इन विधियों का उद्देश्य निवेशकों के लिए शेयर का सही मूल्य निर्धारित करना है।

1. शेयरों के मूल्यांकन की  यील्ड पद्धति

इसे बाजार आधारित मूल्यांकन पद्धति भी कहा जाता है। इस पद्धति में आप कई तुलनीय शेयरों की अपेक्षित प्रभावी उपज को ध्यान में रखते हैं और तदनुसार उस स्टॉक के मूल्यांकन का पता लगाते हैं जिसमें आप सबसे अधिक रुचि रखते हैं।

यह मूल्यांकन दो तरह से किया जा सकता है – कमाई और लाभांश उपज। अर्निंग यील्ड में, स्टॉक का मूल्यांकन अपेक्षित आय और रिटर्न की सामान्य दर के आधार पर किया जाता है और डिविडेंड यील्ड अपेक्षित लाभांश और रिटर्न की सामान्य दर पर आधारित होता है।

  • अर्निंग यील्ड वेरिएंट

शेयर का मूल्य = (अर्जन की अपेक्षित दर/अर्जन की सामान्य दर) * एक शेयर का चुकता मूल्य

जहां, कमाई की अपेक्षित दर = (इक्विटी शेयरधारक/पेड अप इक्विटी शेयर पूंजी के लिए उपलब्ध लाभ)* 100

उदाहरण के लिए, यदि किसी कंपनी का कर पश्चात लाभ 10,000 रुपये है, 5 प्रतिशत कमाई की सामान्य दर, 10 रुपये का भुगतान मूल्य और शेयरों की कुल संख्या 10,000 है, तो आप इस तरह से एक शेयर के मूल्यांकन की गणना करेंगे –

चुकता इक्विटी शेयर पूंजी = एक शेयर का चुकता मूल्य * शेयरों की संख्या

= रु 10 * 10,000

= रु 1,00,000

कमाई की अपेक्षित दर = (10,000/1,00,000)*100

= 10%

एक शेयर का मूल्य = (10/5)*10 रुपये

= 20 रुपये

  • डिविडेंड यील्ड वेरिएंट

यह बिल्कुल अर्निंग यील्ड वैरिएंट के समान है सिवाय इसके कि लाभांश की अपेक्षित दर का उपयोग किया जाता है।

शेयर का मूल्य = (लाभांश की अपेक्षित दर / लाभांश की सामान्य दर) * एक शेयर का चुकता मूल्य

जहां, लाभांश की अपेक्षित दर = (इक्विटी शेयरधारक/पेड अप इक्विटी शेयर पूंजी के लिए उपलब्ध लाभ)* 100

उपरोक्त उदाहरण को आगे बढ़ाते हुए, लाभांश की अपेक्षित दर 10 प्रतिशत पर समान होगी। यदि लाभांश की सामान्य दर 2 प्रतिशत है, तो इस प्रकार किसी शेयर के मूल्यांकन की गणना की जाएगी:

एक शेयर का मूल्य = (10/2)*10

= रु 50

2. शेयरों के मूल्यांकन की शुद्ध संपत्ति विधि

यह मूल्यांकन पद्धति कंपनी की शुद्ध संपत्ति मूल्य को ध्यान में रखती है। आपको पहले कंपनी की कुल संपत्ति और देनदारियों का पता लगाना होगा। आप संपत्ति से देनदारियों को घटाने के बाद शुद्ध संपत्ति पर पहुंचते हैं। गैर-व्यापारिक संपत्ति जैसे कंपनी की सद्भावना, आदि को भी कुल संपत्ति में शामिल किया जाना चाहिए। एक बार जब आपके पास शुद्ध परिसंपत्ति मूल्य होता है, तो आप शेयर के आंतरिक मूल्य को निर्धारित करने के लिए इसे इक्विटी शेयरों की संख्या से विभाजित करते हैं।

शेयर का मूल्य = इक्विटी शेयरधारकों के लिए उपलब्ध शुद्ध संपत्ति / इक्विटी शेयरों की संख्या

उदाहरण के लिए, यदि किसी कंपनी की कुल संपत्ति 10 लाख रुपये और देनदारियां 2 लाख रुपये आती हैं, तो शुद्ध संपत्ति 8 लाख रुपये होगी। अब यदि इक्विटी शेयरों की संख्या 10,000 है, तो आप शेयरों के मूल्यांकन की गणना इस प्रकार करेंगे:

शेयर का मूल्य = 8,00,000/10000

= 80 रुपये

शेयरों के मूल्यांकन को प्रभावित करने वाले कारक

शेयरों के मूल्यांकन को कई कारक प्रभावित करते हैं। कंपनी की मूल बातें, जैसे कि उसकी आय, और वित्तीय स्थिति, महत्वपूर्ण होती हैं। अर्थव्यवस्था और शेयर बाजार में अप्रत्याशित परिवर्तन भी मूल्यांकन को प्रभावित कर सकते हैं। कंपनी की कुल संपत्ति, उसके प्लांट और मशीनरी की आयु और कुशलता, वर्षों से लाभांश का भुगतान, और भविष्य के विकास की संभावनाएं शेयरों के मूल्यांकन के महत्वपूर्ण पहलू होते हैं। साथ ही, कंपनी के ऋण स्तर और प्रबंधन तथा निदेशक मंडल की गुणवत्ता भी मूल्यांकन को प्रभावित करती है। ये सभी कारक मिलकर एक शेयर के वास्तविक मूल्य का निर्धारण करते हैं।

त्वरित सारांश

स्टॉक वैल्यूएशन निवेशक को पर्याप्त अंतर्दृष्टि प्रदान करता है जो उसे एक अच्छी तरह से सूचित निर्णय लेने में मदद कर सकता है। शेयर बाजार में सफलता की कुंजी यह जानना है कि चार्ट और नंबर क्या दिखाते हैं। स्टॉक वैल्यूएशन इसमें मदद करता है।

एक्सचेंज पर स्टॉक और ट्रेड के मूल्य को देखने के और भी तरीके हैं। इसलिए, आपको पहले सही विधि चुनने और फिर इसे अपने लाभ के लिए लागू करने के लिए गहन ज्ञान की आवश्यकता है।

विषय को समझने के लिए और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, नीचे दिए गए संबंधित स्टॉक मार्केट लेखों को अवश्य पढ़ें।

पेनी स्टॉक
प्राथमिक बाजार और द्वितीय बाजार में अंतर
बॉन्ड मार्केट क्या है
इंडिया विक्स क्या होता है
स्टॉक और बांड मैं क्या अंतर है
हेजिंग रणनीतियों के प्रकार
फ्यूचर एंड ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है
प्राइमरी मार्केट / न्यू इश्यू मार्केट अर्थ
बोनस शेयर क्या होता है
गिरवी रखे हुए शेयरों का अर्थ
PE अनुपात क्या है
वित्तीय साधन क्या है
डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट
स्टॉक स्प्लिट का क्या मतलब होता है
स्टॉप लॉस क्या है
BTST ट्रेडिंग क्या होता है
All Topics
Related Posts
Vinodchandra Mansukhlal Parekh Portfolio In Hindi
Hindi

विनोदचंद्र मनसुखलाल पारेख पोर्टफोलियो के बारे में जानकारी – Vinodchandra Mansukhlal Parekh Portfolio In Hindi

नीचे दी गई तालिका उच्चतम बाजार पूंजीकरण के आधार पर विनोदचंद्र मनसुखलाल पारेख पोर्टफोलियो को दर्शाती है। Name Market Cap (Cr) Close Price Garware Technical

STOP PAYING

₹ 20 BROKERAGE

ON TRADES !

Trade Intraday and Futures & Options