ELSS Mutual Fund Meaning Hindi

ELSS म्यूचुअल फंड क्या है? – ELSS Mutual Fund Meaning in Hindi

ELSS म्यूचुअल फंड का पूरा नाम Equity-Linked Saving Schemes है, यह एक कर बचत म्यूचुअल फंड है जो प्रमुख रूप से कंपनियों के इक्विटी हिस्सों में निवेश करता है। इन फंड्स का मुख्य उद्देश्य दीर्घकालिक में संपत्ति की वृद्धि प्रदान करना और निवेशकों को कर बचत में मदद करना है।

ELSS फंड में निवेश करने से आप इनकम टैक्स अधिनियम की धारा 80C के अंतर्गत एक वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपये तक का कर मुक्त कर सकते हैं। इनका एक तीन साल का लॉक-इन अवधि होता है, जिसका मतलब है कि आप तीन साल से पहले अपने फंड्स को वापस नहीं ले सकते।

अनुक्रमणिका:

ELSS फंड्स की विशेषताएं – Features Of ELSS Funds in Hindi

ELSS म्यूचुअल फंड्स की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता इनकम टैक्स अधिनियम की धारा 80C के तहत कर बचत की सुविधा है, एक वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपये तक।

चलिए ELSS फंड्स की कुछ और विशेषताओं पर नज़र डालते हैं:

  1. डिवीडेंड और विकास विकल्प

ELSS फंड्स निवेशकों को दो विकल्प प्रदान करते हैं – डिवीडेंड और विकास। डिवीडेंड विकल्प में, फंड समय-समय पर निवेशकों को डिवीडेंड देता है। वहीं, विकास विकल्प में, निवेशक का पैसा निवेशित रहता है, और लाभ को पुनः निवेशित किया जाता है जो और भी अधिक लाभ उत्पन्न करता है।

  1. कर लाभ

ELSS फंड्स में निवेश करने का एक प्रमुख लाभ वे कर सुविधा है जो ये प्रदान करते हैं। ELSS फंड्स इनकम टैक्स अधिनियम की धारा 80C के तहत कर छूट के लिए पात्र हैं। इससे करदाता को एक वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपये तक की छूट मिलती है।

उदाहरण स्वरूप, यदि कोई करदाता ELSS फंड्स में 1.5 लाख रुपये निवेश करता है, तो वह पूरी राशि को अपनी कर योग्य आजीविका से छूट के रूप में दावा कर सकता है, जिससे उसकी कर देयता कम हो जाती है। साथ ही, ELSS फंड्स का तीन साल का लॉक-इन अवधि होता है, जो सभी कर बचत निवेश में सबसे छोटा लॉक-इन अवधि है।

4. सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान

ELSS फंड्स निवेशकों को Systematic Investment Plan (SIP) के माध्यम से निवेश करने का भी विकल्प प्रदान करते हैं, जिससे निवेशक नियमित अंतराल पर एक निश्चित राशि निवेश कर सकते हैं

5. लॉक-इन अवधि

ELSS फंड्स की तीन साल की लॉक-इन अवधि होती है, इसका मतलब है कि निवेशक इस अवधि के पूरा होने से पहले अपना पैसा वापस नहीं ले सकते। हालांकि, लॉक-इन अवधि के समाप्त होने के बाद, निवेशक पैसा निकाल सकते हैं या फंड में निवेश करते रह सकते हैं।

6. पेशेवर रूप से प्रबंधित

ELSS फंड्स को पेशेवर फंड प्रबंधकों द्वारा प्रबंधित किया जाता है जो इक्विटी निवेश में विशेषज्ञ हैं। वे निवेश के लिए सबसे अच्छे स्टॉक का चयन करने और बाजार की स्थितियों के अनुसार पोर्टफोलियो में समायोजन करने के लिए अपनी विशेषज्ञता का उपयोग करते हैं।

7. संतुलित और विविधीकृत निवेश

ELSS फंड्स विभिन्न क्षेत्रों और बाजार पूंजीकरण में स्टॉक्स की एक विविधित पोर्टफोलियो में निवेश करते हैं। यह विविधीकरण एक ही स्टॉक या क्षेत्र में संचारण का जोखिम कम करने में मदद करता है।

उदाहरण के लिए, अगर एक निवेशक एक ELSS फंड में निवेश करता है जो बड़े-टोपी स्टॉक्स, मध्य-टोपी स्टॉक्स, और छोटे-टोपी स्टॉक्स में निवेश करता है, तो पोर्टफोलियो की विविधता सुनिश्चित करती है कि निवेशक का पैसा एक व्यापक श्रेणी की कंपनियों में फैला होता है। इससे एक ही स्टॉक या क्षेत्र में संचारण का जोखिम कम होता है और बेहतर जोखिम-समायोजित लाभ प्राप्त होता है।

ELSS म्यूचुअल फंड्स के प्रकार – Types Of ELSS Mutual Funds in Hindi

ELSS म्यूचुअल फंड्स के प्रकार हैं – वृद्धि विकल्प, डिवीडेंड विकल्प, और डिवीडेंड पुनर्निवेश विकल्प।

  1. वृद्धि विकल्प

ELSS म्यूचुअल फंड के वृद्धि विकल्प में, निवेश पर मिलने वाले लाभ को फंड में पुनर्निवेश किया जाता है। निवेशक को कोई डिवीडेंड नहीं मिलता, लेकिन उनके निवेश की मूल्य वृद्धि होती रहती है। लॉक-इन अवधि के अंत में, निवेशक अपने निवेश पर मिलने वाले लाभ को प्राप्त करने के लिए इकाइयां वापसी कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, मान लिजिए कि एक निवेशक 50,000 रुपये ELSS म्यूचुअल फंड में वृद्धि विकल्प के माध्यम से निवेश करता है। फंड की वार्षिकीकृत लाभ दर 12% है और लॉक-इन अवधि तीन साल है। तीन साल के अंत में, निवेश की मूल्य 77,000 रुपये हो जाएगा (50,000 x 1.12^3)। तब निवेशक अपने निवेश पर मिलने वाले लाभ को प्राप्त करने के लिए इकाइयां वापसी कर सकते हैं।

  1. डिवीडेंड विकल्प

ELSS म्यूचुअल फंड के डिवीडेंड विकल्प में, फंड समय-समय पर निवेशकों को डिवीडेंड देता है। डिवीडेंड भुगतान की बार-बारता फंड से फंड अलग हो सकती है, और डिवीडेंड की राशि फंड की प्रदर्शन पर आधारित हो सकती है।

उदाहरण स्वरूप, अगर एक निवेशक 50,000 रुपये ELSS म्यूचुअल फंड में डिवीडेंड विकल्प के माध्यम से निवेश करता है, और फंड 10% का डिवीडेंड घोषित करता है, तो निवेशक को 5,000 रुपये (50,000 x 0.1) का डिवीडेंड मिलेगा। निवेशक डिवीडेंड को उसी फंड में पुनः निवेश करने का चुनाव कर सकते हैं या डिवीडेंड को नकद में प्राप्त कर सकते हैं।

  1. डिवीडेंड पुनर्निवेश विकल्प

ELSS म्यूचुअल फंड के डिवीडेंड पुनर्निवेश विकल्प में, फंड द्वारा घोषित डिवीडेंड को फंड में पुनर्निवेश किया जाता है। निवेशक को कोई नकद भुगतान नहीं मिलता है, लेकिन डिवीडेंड को पुनः निवेश करने के संचित प्रभाव से लाभ होता है।

ELSS के कर लाभ – Tax Benefits of ELSS in Hindi

  1. सबसे कम लॉक-इन समय

ELSS म्यूचुअल फंड में सबसे कम लॉक-इन समय है, मात्र तीन साल, जो आयकर अधिनियम की धारा 80C के अंतर्गत सभी कर बचत निवेश विकल्पों में सबसे कम है। इसका मतलब है कि ELSS फंड में निवेशक अपने निवेश पर कर लाभ उठा सकते हैं और साथ ही मात्र तीन साल बाद अपनी इकाइयों को वापस प्राप्त करने की आजादी का आनंद ले सकते हैं।

  1. बेहतर लाभ

ऐतिहासिक रूप से ELSS म्यूचुअल फंड्स ने अन्य कर बचत निवेश विकल्पों की तुलना में उच्च लाभ प्रदान किया है। पिछले पाँच साल में, ELSS म्यूचुअल फंड्स का औसत वार्षिक लाभ लगभग 12-15% रहा है, जबकि PPF और NSC जैसे अन्य कर बचत निवेश विकल्पों ने 7-8% की श्रेणी में लाभ प्रदान किया है।

इसका मतलब है कि ELSS म्यूचुअल फंड्स में निवेश करके निवेशक उच्च लाभ प्राप्त कर सकते हैं और साथ ही कर लाभ भी प्रदान कर सकते हैं।

  1. अधिक पोस्ट-टैक्स लाभ

ELSS म्यूचुअल फंड अन्य कर-बचत निवेश विकल्पों की तुलना में बेहतर पोस्ट-टैक्स लाभ प्रदान करते हैं। इसका कारण यह है कि ELSS म्यूचुअल फंड से दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (LTCG) प्रति वित्तीय वर्ष में रु. 1 लाख तक कर मुक्त हैं।

इसकी तुलना में, PPF और NSC जैसे अन्य कर-बचत निवेश विकल्पों से LTCG पर कर लगता है। इसका मतलब है कि ELSS म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने से निवेशकों को अधिक पोस्ट-टैक्स लाभ मिल सकता है।

  1. परेशानी-मुक्त और सुविधाजनक

ELSS म्यूचुअल फंड में सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) के माध्यम से निवेश करना एक कर-बचत उपकरण में निवेश करने का परेशानी-मुक्त और सुविधाजनक तरीका है। SIP निवेशकों को नियमित अंतराल पर, जैसे कि मासिक या त्रैमासिक, अपने ELSS म्यूचुअल फंड में निर्धारित राशि निवेश करने की अनुमति देता है।

इससे वित्तीय अनुशासन की आदत डाली जाती है और यह सुनिश्चित करता है कि निवेशक अपने कर-बचत लक्ष्यों की ओर नियमित रूप से निवेश करते हैं। PPF और NSC जैसे अन्य कर-बचत निवेश विकल्प SIP की सुविधा प्रदान नहीं करते हैं।

ELSS बनाम म्यूचुअल फंड – ELSS Vs Mutual Fund in Hindi 

मुख्य अंतर ELSS और म्यूचुअल फंड्स के बीच यह है कि ELSS फंड्स एक प्रकार का इक्विटी फंड है जिसमें आप वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख तक का कर बचा सकते हैं। वहीं, म्यूचुअल फंड्स एक प्रकार का फंड है जो अलग-अलग निवेशकों से पैसा इकट्ठा करता है और स्टॉक्स, बॉंड्स और अन्य सुरक्षा में निवेश करता है।

  1. लॉक-इन समय
  • ELSS फंड्स में तीन वर्ष की अनिवार्य लॉक-इन समय अवधि है, जबकि सामान्य म्यूचुअल फंड्स में कोई अनिवार्य लॉक-इन अवधि नहीं होती है।
  • ELSS फंड्स में लॉक-इन अवधि दीर्घकालिक निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए है और धारा 80C के तहत कर लाभ का दावा करने के लिए भी आवश्यक है।
  1. कर लाभ

ELSS फंड्स आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत निवेशकों को कर लाभ प्रदान करते हैं। निवेशक ELSS फंड्स में अपने निवेश पर प्रति वित्तीय वर्ष 1.5 लाख तक का कर कटौती का दावा कर सकते हैं। सामान्य म्यूचुअल फंड्स के लिए यह कर लाभ उपलब्ध नहीं है।

  1. तरलता

सामान्य म्यूचुअल फंड्स ELSS फंड्स की तुलना में अधिक तरलता प्रदान करते हैं। जैसा कि पहले ही बताया गया है, ELSS फंड्स में तीन वर्ष की अनिवार्य लॉक-इन अवधि होती है, जबकि सामान्य म्यूचुअल फंड्स में कोई लॉक-इन अवधि नहीं होती है।

सामान्य म्यूचुअल फंड्स अधिक तरलता और लचीलापन प्रदान करते हैं, जबकि ELSS फंड्स कर लाभ और एक लॉक-इन अवधि प्रदान करते हैं जो दीर्घकालिक निवेशों को प्रोत्साहित करता है। निवेशकों को ELSS और सामान्य म्यूचुअल फंड्स में चुनने के बीच अपने निवेश लक्ष्य औ

क्या आप म्यूचुअल फंड्स के बारे में अपने ज्ञान को विस्तारित करना चाहते हैं? हमारे पास एक ऐसी सूची है जिसमें म्यूचुअल फंड्स के बारे में जानने में मदद मिलेगी। और अधिक जानने के लिए, लेखों पर क्लिक करें।

FMP का पूरा नाम और अर्थ
फ्लेक्सी कैप म्यूचुअल फंड
NFO क्या है?
डायरेक्ट म्यूचुअल फंड का मतलब
म्यूचुअल फंड में CAGR क्या है?
XIRR म्यूचुअल फंड में का अर्थ
टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स क्या है?
हाइब्रिड फंड के प्रकार
एग्रेसिव हाइब्रिड फंड
कंजर्वेटिव हाइब्रिड म्यूचुअल
PPF बनाम म्युचुअल फंड
म्युचुअल फंड क्या है?

ELSS म्यूचुअल फंड क्या है- त्वरित सारांश

  • ELSS म्यूचुअल फंड भारत में कर-बचत निवेश विकल्प हैं।
  • ELSS फंड की विशेषताएं पेशेवर प्रबंधन, विविध निवेश और सिस्टेमैटिक निवेश योजनाओं का विकल्प शामिल हैं।
  • ELSS फंड के लिए तीन डिवीडेंड विकल्प हैं: वृद्धि, डिवीडेंड और डिवीडेंड पुनर्निवेश।
  • ELSS फंड कर-बचत निवेश में सबसे कम लॉक-इन समय का लाभ प्रदान करते हैं।
  • ELSS फंड वृद्धि, डिवीडेंड और डिवीडेंड पुनर्निवेश विकल्प में आते हैं।
  • ELSS फंड अन्य कर-बचत निवेशों से अधिक लाभ और बेहतर पोस्ट-कर लाभ प्रदान करते हैं।
  • ELSS फंड में नियमित रूप से निवेश करना साहसिक और सुविधाजनक है।
  • ELSS फंड्स की अन्य कर-बचत निवेशों की तुलना में छोटी लॉक-इन अवधि होती है।
  • लॉक-इन अवधि के बाद ELSS फंड्स आंशिक निकासी के माध्यम से तरलता प्रदान करते हैं।
  • शीर्ष कर-बचत म्यूचुअल फंड में एक्सिस लॉंग टर्म इक्विटी फंड और आदित्य बिरला सन लाइफ टैक्स रिलीफ 96 शामिल हैं।
  • निवेशक ELSS फंड में अपने निवेश पर प्रति वित्तीय वर्ष 1.5 लाख तक का कर कटौती का दावा कर सकते हैं। वहीं, अन्य प्रकार के म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने पर कोई कर लाभ नहीं है।

ELSS म्यूचुअल फंड क्या है- अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1.ELSS म्यूचुअल फंड क्या है?

ELSS (इक्विटी-लिंक्ड सेविंग स्कीम) एक प्रकार का म्यूचुअल फंड है जो मुख्य रूप से इक्विटी शेयर में निवेश करता है और आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत कर लाभ प्रदान करता है।

2.क्या ELSS SIP से बेहतर है?

ELSS और SIP दो अलग निवेश विकल्प हैं और इन्हें सीधे तुलना नहीं की जा सकती। SIP (सिस्टेमैटिक निवेश योजना) म्यूचुअल फंड्स में निवेश का एक तरीका है, ELSS फंड्स समेत।

3.क्या मैं ELSS से 5 साल बाद निकासी कर सकता हूँ?

हां, निवेशक ELSS फंड्स में अपना निवेश तीन साल की अनिवार्य लॉक-इन अवधि के बाद निकाल सकते हैं।

4.ELSS की क्या अवशेषताएँ हैं?

ELSS फंड्स की कमजोरियां में तीन साल की अनिवार्य लॉक-इन अवधि और बाजार जोखिम शामिल हैं।

5.ELSS क्यों जोखिमपूर्ण है?

ELSS फंड्स मुख्य रूप से इक्विटी में निवेश करते हैं, जिससे ये बाजार जोखिमों के प्रति संवेदनशील होते हैं।

6.क्या ELSS PPF से बेहतर है?

ELSS और PPF दो अलग निवेश विकल्प हैं। ELSS फंड्स PPF की तुलना में अधिक लाभ प्रदान कर सकते हैं, लेकिन वे बाजार जोखिमों के प्रति संवेदनशील होते हैं।

7.क्या ELSS कर-मुक्त है?

निवेशक ELSS फंड में अपने निवेश पर प्रति वित्तीय वर्ष 1.5 लाख तक का कर कटौती का दावा कर सकते हैं। हालांकि, अगर ELSS फंड्स से प्राप्त लाभ 1 लाख रुपये प्रति वित्तीय वर्ष से अधिक होता है, तो इस पर 10% कर लागू होता है।

हम आशा करते हैं कि आप विषय के बारे में स्पष्ट हैं। लेकिन ट्रेडिंग और निवेश के संबंध में और भी अधिक सीखने और अन्वेषण करने के लिए, हम आपको उन महत्वपूर्ण विषयों और क्षेत्रों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए:।

नवीकरणीय ऊर्जा स्टॉक
खरीदने के लिए सर्वश्रेष्ठ केमिकल्स स्टॉक
सेंसेक्स कंपनियों की सूची
PE अनुपात क्या है?
डीमैट अकाउंट क्या होता है?
सब ब्रोकर क्या होता है?
CNC और MIS ऑर्डर का अंतर
NSE क्या है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All Topics
Related Posts

Enjoy Low Brokerage Trading Account In India

Save More Brokerage!!

We have Zero Brokerage on Equity, Mutual Funds & IPO