Gilt Funds Meaning Hindi

गिल्ट फंड का क्या मतलब है? – Gilt Funds Meaning in Hindi

गिल्ट फंड एक प्रकार का म्यूचुअल फंड है जो केवल सरकारी पत्रों में निवेश करता है, जैसे खजांची बिल, सरकारी बॉंड और सरकारी संस्थाओं द्वारा जारी किए गए पत्र। यह फंड निवेश में सुरक्षित विकल्प प्रदान करता है क्योंकि इसे सरकार द्वारा समर्थन प्राप्त होता है और इसमें कोई डिफॉल्ट जोखिम नहीं होता है।

निवेशक जो अपने निवेश के लिए एक सुरक्षित स्थान चाहते हैं, वे स्थिर लाभ और पूंजी संरक्षण के लिए गिल्ट फंड पर भरोसा कर सकते हैं।

इसके अलावा, गिल्ट फंड सरकारी पहलों और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि वे सरकारी परियोजनाओं और बुनियादी ढांचे के विकास के लिए स्थिर फंडिंग स्रोत प्रदान करते हैं।

अनुक्रमणिका:

गिल्ट फंड का मतलब

गिल्ट का पूरा नाम “सरकारी पत्र निवेश फंड” है। गिल्ट फंड से तात्कालिक वह म्यूचुअल फंड योजनाएं दर्शाई जाती हैं जो केवल सरकारी पत्रों में निवेश करती हैं, जिसे आमतौर पर गिल्ट या सरकारी बॉंड कहा जाता है। चूंकि ये फंड सार्वजनिक बॉंड में निवेश करते हैं, प्रमुख और ब्याज भुगतान सरकार द्वारा गारंटी किए जाते हैं, जिससे ये एक कम जोखिम निवेश विकल्प बन जाते हैं।

भारत में प्रसिद्ध गिल्ट फंड, SBI मैगनम गिल्ट फंड के मामले को देखें। इस फंड के निवेशकों से जमा की गई धनराशि का प्रमुख हिस्सा सरकारी पत्रों में निवेश किया जाता है। इसलिए, इस फंड से निवेशकों को मिलने वाला लाभ भारत की आर्थिक स्थिति और सरकार की वित्तीय नीति से कारीब कारीब जुड़ा होता है।

गिल्ट फंड में निवेश कैसे करें? – How To Invest In Gilt Funds in Hindi

गिल्ट फंड में निवेश करना सीधा सा प्रक्रिया है, जैसा कि किसी अन्य म्यूचुअल फंड योजना में निवेश करना होता है। निम्नलिखित चरण शामिल हैं:

  1. गिल्ट फंड चुनें: अनुसंधान करें और ऐसा गिल्ट फंड चुनें जो आपके निवेश उद्देश्य और जोखिम सहिष्णुता के अनुसार हो।
  2. KYC अनुपालन: सुनिश्चित करें कि आपने अपनी KYC (अपने ग्राहक को जानिए) प्रक्रिया पूरी की है। यह भारत में किसी भी म्यूचुअल फंड योजना में निवेश करने के लिए एक बार की प्रक्रिया है।
  3. ऑनलाइन आवेदन: म्यूचुअल फंड हाउस की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं या विश्वसनीय वित्तीय प्लेटफार्म का चयन करें। आवश्यक विवरण भरें और जिस गिल्ट फंड में निवेश करना चाहते हैं, उसे चुनें।
  4. भुगतान: स्वीकृत ऑनलाइन भुगतान विधि के माध्यम से भुगतान करें।
  5. पुष्टिकरण: भुगतान सफल होने पर, आपके पंजीकृत ईमेल ID पर आपके निवेश की पुष्टिकरण मिलेगा।

याद रखें कि जबकि गिल्ट फंड कम जोखिम वाले होते हैं, निवेश से पहले अपने निवेश लक्ष्य और जोखिम सहिष्णुता को विचार करना महत्वपूर्ण है।

गिल्ट फंड के प्रकार – Types of Gilt Funds in Hindi

निवेश रणनीति के आधार पर गिल्ट फंड को दो प्रकार में विभाजित किया जा सकता है:

  1. 10 वर्षीय स्थिर अवधि वाले गिल्ट फंड: ये फंड एक स्थिर अवधि के साथ 10 वर्षों के सरकारी पत्रों में निवेश करते हैं। HDFC गिल्ट फंड – लंबी अवधि की योजना इस प्रकार का एक उदाहरण है।
  2. सामान्य गिल्ट फंड: इन फंडों की एक स्थिर अवधि नहीं होती है। वे ब्याज दर की स्थिति के आधार पर विभिन्न परिपक्वता के साथ सरकारी पत्रों में निवेश करते हैं। SBI मैगनम गिल्ट फंड इस श्रेणी का एक उदाहरण है।

गिल्ट और डेट फंड में अंतर – Difference Between Gilt and Debt Funds in Hindi

गिल्ट और डेट फंड में मुख्य अंतर यह है कि गिल्ट फंड केवल सरकारी पत्रों में निवेश करते हैं, जिससे बहुत कम डिफॉल्ट जोखिम होता है। वहीं, डेट फंड सरकारी और कॉर्पोरेट बॉंड्स के मिश्रण में निवेश करते हैं, जो उन्हें अपेक्षाकृत जोखिमपूर्ण बनाते हैं।

पैरामीटरगिल्ट फंडऋण निधि
उद्देश्यसरकारी प्रतिभूतियों में निवेश करनासरकारी और कॉर्पोरेट बांड के मिश्रण में निवेश करना
जोखिमनिम्न (सरकार समर्थित)मध्यम से उच्च (क्रेडिट गुणवत्ता पर निर्भर करता है)
रिटर्नअपेक्षाकृत स्थिर और आम तौर पर कमअधिक जोखिम के साथ अधिक रिटर्न की संभावना
निवेशमुख्यतः सरकारी प्रतिभूतियों (गिल्ट) मेंसरकारी और कॉर्पोरेट बांडों में विविधता
क्रेडिट गुणवत्ताआमतौर पर उच्च क्रेडिट गुणवत्ता (सरकार द्वारा समर्थित)अंतर्निहित बांड की गुणवत्ता के आधार पर भिन्न होता है
ब्याज दर संवेदनशीलताब्याज दर परिवर्तन के प्रति उच्च संवेदनशीलताब्याज दर परिवर्तन के प्रति मध्यम संवेदनशीलता
लिक्विडिटीसक्रिय व्यापार के कारण आम तौर पर उच्च तरलताअंतर्निहित बांड के आधार पर तरलता भिन्न होती है
निवेश क्षितिजलंबी अवधि के निवेशकों के लिए उपयुक्तलघु से मध्यम अवधि के निवेशकों के लिए उपयुक्त
जोखिमब्याज दर जोखिम और पुनर्निवेश जोखिमक्रेडिट जोखिम, ब्याज दर जोखिम और पुनर्निवेश जोखिम
निवेशक प्रोफाइलस्थिर रिटर्न चाहने वाले रूढ़िवादी निवेशकमध्यम जोखिम क्षमता वाले निवेशक अधिक रिटर्न चाहते हैं

गिल्ट फंड की कराधान – Taxation of Gilt Funds in Hindi

भारत में सभी डेट फंड की तरह, गिल्ट फंड पर भी कर लागू होता है। अगर आप खरीद के तीन साल के भीतर अपना निवेश वापस लेते हैं, तो लाभ को अल्पकालिक पूंजीगत लाभ के रूप में माना जाता है और इस पर आपके आय कर स्लैब के अनुसार कर लगता है। अगर आप अपने निवेश को तीन साल से अधिक समय तक रखते हैं, तो लाभ को दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ माना जाता है और 20% कर के साथ सूचीकरण लाभ लागू होता है।

उदाहरण के लिए, अगर एक निवेशक 30% कर श्रेणी में है और उनके गिल्ट फंड निवेश पर ₹10,000 का अल्पकालिक लाभ होता है, तो उन्हें ₹3,000 कर भुगतान करना होगा। हालांकि, अगर वही निवेशक फंड को तीन साल से अधिक समय तक रखता है, तो वे केवल सूचीकृत लाभ पर 20% कर भुगतान करेंगे, जो उनकी कर दायित्व को काफी कम कर सकता है।

याद रखें कि कर नियम में परिवर्तन हो सकते हैं, और यह हमेशा सलाहकार से सलाह लेना फायदेमंद होता है।

सर्वश्रेष्ठ गिल्ट फंड – Best Gilt Funds List in Hindi

यहां भारत में कुछ लोकप्रिय गिल्ट फंड हैं:

Fund NameReturns (%) – 1 YearReturns (%) – 3 YearsReturns (%) – 5 Years
SBI Magnum Gilt Fund9.03%5.14%8.82%
HDFC Gilt Fund7.43%3.82%6.83%
ICICI Prudential Gilt Fund9.68%5.28%8.57%
DSP Government Securities Fund7.94%4.76%8.93%
Nippon India Gilt Securities Fund8.47%4.14%8.59%

क्या आप म्यूचुअल फंड्स के बारे में अपने ज्ञान को विस्तारित करना चाहते हैं? हमारे पास एक ऐसी सूची है जिसमें म्यूचुअल फंड्स के बारे में जानने में मदद मिलेगी। और अधिक जानने के लिए, लेखों पर क्लिक करें।

गिल्ट फंड का क्या मतलब है?
मल्टी एसेट एलोकेशन फंड
म्यूचुअल फंड में ‘अब्सोल्यूट रिटर्न’ क्या है?
एक्टिव म्यूचुअल फंड्स
SIP बनाम STP
ग्रोथ फंड क्या है?
AIF निवेश
म्यूचुअल फंड के प्रकार
SIP के प्रकार
डेट म्यूचुअल फंड के प्रकार